स्रोत पर कर कटौती के लिए दरें

[निर्धारण वर्ष 2019-20 के लिए]

विवरण टीडीएस दरें (% में)
1. कंपनी को छोड़कर व्यक्ति की स्थिति में  
1.1 जहां व्यक्ति भारत में निवासी हो  
धारा 192-वेतन का भुगतान सामान्य स्लैब की दर

धारा 192क : भविष्य निधि के संचित शेष का भुगतान जो कर्मचारी के हाथो करयोग्य हैं (01.06.2015 से प्रभावी)

10
धारा-193 प्रतिभूतियों पर ब्याज-  
(क) केंद्र सरकार अथवा प्रांतीय अधिनियम द्वारा स्थापित निगम अथवा किसी स्थानीय प्राधिकारी की ओर से जारी राशि के लिए कोई डिबेंचर अथवा प्रतिभूति 10
(ख) कंपनी द्वारा जारी कोई डिबेंचर जहां ऐसे डिबेंचर प्रतिभूति अनुबंध (नियामक) अधिनियम, 1956 (1956 का 42) तथा इस आधार पर बने किसी नियम के अनुसार प्राधिकृत स्टॉक एक्सचेंज पर सूचीबद्ध हैं 10
(ग) केंद्र अथवा राज्य सरकार की कोई प्रतिभूति 10
(यानी 8 प्रतिशत बचत (करयोग्य) बांड, 2003 और 7.75 प्रतिशत बचत (करयोग्य) बांड, 2018)  
(घ) अन्य किसी प्रतिभूति पर ब्याज 10
धारा 194क-"प्रतिभूतियों पर ब्याज" के अलावा ब्याज के रूप में आय 10
धारा 194ख-लाटरी या वर्ग पहेली या कार्ड खेल या किसी भी प्रकार के अन्य खेल से जीत के रूप में आय 30
धारा 194खख-घुड़दौडों से जीत के रूप में आय 30
धारा 194ग- ठेकेदार/उप-ठेकेदार को भुगतान  
(क) एक व्यक्ति या एक हिन्दू अविभाजित परिवार 1
(ख) अन्य 2
धारा 194घ-बीमा कमीशन 5
धारा 194घक-जीवन बीमा पॉलिसी के संदर्भ में भुगतान 1
धारा 194ड़ड़-राष्ट्रीय बचत योजना, के तहत जमा के संदर्भ में भुगतान 10
धारा 194च- म्यूचुअल फंड अथवा यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया द्वारा इकाई की पुनर्खरीद के कारण भुगतान 20
धारा 194छ-लाटरी टिकटों की बिक्री पर कमीशन आदि 5
धारा 194ज-कमीशन या दलाली  5
धारा 194झ-किराया-  
(क) संयंत्र और मशीनरी 2
(ख) भूमि या इमारत या फर्नीचर या फिटिंग 10
धारा 194झक-कृषि भूमि को छोड़कर कुछ अचल संपत्ति के स्थानांतरण पर भुगतान 1

धारा 194-झख : व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा किराये का भुगतन कर अंकेक्षण के लिए उत्तरदायी नहीं है

टिप्पणी : यह प्रावधान 1 जून, 2017 से लागू है

5
धारा 194-झग : संयुक्त विकास समझौतों के अंतर्गत विचारनीय मुद्रा का भुगतान 10
धारा-194ञ: निम्न के रूप में दी गई कोई राशि 10

क) पेशेवर सेवा के लिए शुल्क

ख) तकनीकी सेवा के लिए शुल्क

ग) रायल्टी

घ) निदेशक को पारिश्रमिक/शुल्क/कमीशन या

ड़) किसी व्यापार के संबंध में कोई गतिविधि न करने के लिए

च) किसी तकनीकी जानकारी, पेटेंट, कॉपीराइट आदि को साझा न करने के लिए

टिप्पणी : प्रभावी तिथि 1 जून, 2017 से टीडीएस की दर 2% होगी यदि अदाता कॉल सेंटर के संचालन का व्यापार करता हो।

 
धारा-194ठक-कुछ अचल परिसम्पत्ति के अधिग्रहण पर मुआवजे का भुगतान 10
टिप्पणी : प्रभावी तिथि 1 अप्रैल 2017 से, कोर्इ कर कटौती उस किसी भी भुगतान पर नहीं की जाएगी जो उचित मुआवजा अधिनियम, 2013 के अधिकार के अंर्तगत आयकर के उदग्रहण से मुक्त हो।  
धारा 194ठखक(1) : व्यापारिक न्यास को वितरण के दौरान कर कटौती करनी होगी, एसवीपी द्वारा इसके प्राप्त अथवा प्राप्तनीय किसी आय अथवा उसके द्वारा प्रत्यक्ष रूप से किसी अचल संपत्ति को किराये पर अथवा पट्टे पर अथवा भाडे़ पर इसके इकाई धारक को देने से प्राप्त कोर्इ आय 10
धारा 194ठखख : निवेशगत कोष इकाई धारक को आय के भुगतान (उस आय को छोड़कर जो धारा 10(23चखख) के अंतर्गत छूट प्राप्त हैं) 10
धारा 194ठखग : प्रतिभूतिकारण न्यास में किये गये निवेश के सन्दर्भ में आय ( धारा 194ठखग के स्पष्टिकरण में निर्दिष्ट) व्यक्ति अथवा एचयूएफ की स्थिति में 25% अन्य व्यक्ति की स्थिति में 30%

अन्य कोई आय

10

1.2 जहां व्यक्ति भारत में न रहता हो

धारा-192-वेतन का भुगतान सामान्य स्लैब दरें

धारा 192क : भविष्य निधि के संचित शेष का भुगतान जो कर्मचारी के हाथो करयोग्य हैं

10
धारा-194ख-लाटरी, वर्ग पहेली, कार्ड खेल या किसी अन्य प्रकार के खेल से जीत के रूप में आय 30
धारा-194खख-घुड़दौड़ों से जीत के रूप में आय 30
धारा-194ड़-एक अनिवासी खिलाड़ी खेल संघ को भुगतान 20
धारा-194ड़ड़-राष्ट्रीय बचत योजना, के तहत जमा के संदर्भ में भुगतान 10
धारा-194च- म्यूचअल फंड अथवा यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया द्वारा इकाई की पुर्नखरीद के कारण भुगतान 20
धारा 194छ- लाटरी टिकटों की बिक्री पर कमीशन आदि 5
धारा-194ठख- अवसंरचना ऋण निधि पर ब्याज का भुगतान 5

धारा 194ठखक (2) : व्यापारिक न्यास अपने इकाई धारकों को एसपीवी से उसके द्वारा प्राप्त अथवा प्राप्तनीय किसी ब्याज आय के वितरण के दौरान कर की कटौती करेगी

5

धारा 194ठखक (3) : व्यापारिक न्यास अपने इकाई धारकों प्रत्यक्ष स्वामित्व वाली किसी रियल एस्टेट को किराए पर अथवा पट्टे पर अथवा भाडे़ पर देने से प्राप्त किसी आय के वितरण के दौरान कर की कटौती करेगा

30

धारा 194ठखख : निवेशगत कोष इकाई धारक को आय के भुगतान (उस आय को छोड़कर जो धारा 10(23चखख) के अंतर्गत छूट प्राप्त हैं)

30
धारा 194ठखग : प्रतिभूतिकरण न्यास (धारा 115नगक के स्पष्टीकरण में निर्दिष्ट) में किए गए निवेश के संबंध में आय (धारा 115नगक के स्पष्टीकरण में निर्दिष्ट) 30
धारा-194ठग :दीर्घकालीन बांड (दीर्घकालीन अवसंरचना बांड सहित) के निगर्मन के रूप में अथवा ऋण समझौते के अंतर्गत विदेशी मुद्रा में उधार ली गई राशि के संबंध में एक व्यापार न्यास अथवा भारतीय कंपनी द्वारा ब्याज का भुगतान 5
टिप्पणी : प्रभावी तिथि 1 अप्रैल 2018 से ऐसी रियायती टीडीएस दरों के लाभ को आगे तीन वर्षों तक बढ़ाया गया है। अब 5 प्रतिशत की रियायती दरों पर टीडीएस 1 जुलाई 2020 से पहले लिए गए उधार के लिए लागू होगी।  
धारा-194ठघ : एक अर्हता प्राप्त विदेशी निवेशक अथवा एक विदेशी संस्थागत निवेशक हेतु सरकारी प्रतिभूति अथवा भारतीय कंपनी के रूपए डोमीनेटिड बांड पर ब्याज का भुगतान 5
टिप्पणी : प्रभावी तिथि 1 अप्रैल 2018 से ऐसी रियायती टीडीएस दरों के लाभ को आगे तीन वर्षों तक बढ़ाया गया है। अब 5 प्रतिशत की रियायती दरों पर टीडीएस 1 जुलाई 2020 से पहले लिए गए उधार के लिए लागू होगी।  
धारा-195- एक अनिवासी को अन्य राशि का भुगतान  
क) गैर-निवासी भारतीय नागरिक द्वारा किए गए निवेश के संबंध में आय 20
(ख) गैर-निवासी भारतीय नागरिक के मामले में धारा 115ड़ में संदर्भित दीर्घकालीन पूंजीगत लाभ के रूप में आय 10
(ग) धारा 112 की उप-धारा (1) के वाक्यांश (ग) के उप-वाक्यांश (iii) में संदर्भित दीर्घकालीन पूंजीगत लाभ के रूप में आय 10
(घ) दीर्घकालीन पूंजी प्राप्तियों के रूप में आय जैसा धारा 112क में संदर्भित है  
(ड़) धारा 111क के तहत अल्पकालिक पूंजीगत लाभ के रूप में आय 15
(च) किसी दीर्घकालिक लाभ के रूप में अन्य कोई आय (वाक्यांश 10(33), 10(36) और 112क हेतु संदर्भित दीर्घ कालीन पूंजीगत प्राप्ति के तौर पर नही) 20
(छ) विदेशी मुद्रा (धारा 194ठख अथवा धारा 194ठग में संदर्भित ब्याज के रूप में आय के तौर पर नहीं) में भारतीय कंपनी अथवा सरकार द्वारा उधार लिए गए अथवा उधार राशि पर भारतीय कंपनी अथवा सरकार द्वारा देययोग्य ब्याज के रूप में आय 20
(ज) सरकार अथवा भारतीय कंपनी के साथ किए गए समझौते के अनुसार सरकार अथवा भारतीय कंपनी द्वारा देय योग्य रॉयल्टी के रूप में आय जहां ऐसी रायॅल्टी भारत में एक निवासी व्यक्ति को आयकर अधिनियम की धारा 115क की उप-धारा (1क) के द्वितीय परंतुक में संदर्भित किसी कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर के संबंध में अथवा भारतीय कंपनी को आयकर अधिनियम की धारा 115क की उप-धारा (1क) हेतु प्रथम परंतुक में संदर्भित विषय पर किसी पुस्तक के कॉपीराइट के संबंध में किसी अथवा सभी अधिकारों (लाईसेंस की स्वीकृति सहित) के स्थानांतरण हेतु विचारनीय हैं 10
(झ) सरकार अथवा भारतीय कंपनी के साथ किए गए समझौते के अनुसार सरकार अथवा भारतीय कंपनी द्वारा देययोग्य रॉयल्टी [बिंदु छ में संदर्भित प्रकार की रॉयल्टी के तौर पर नहीं उक्त ड़] के रूप में आय तथा जहां समझौता भारतीय कंपनी के साथ किया गया हो, समझौता केंद्र सरकार द्वारा अनुमोदित हो अथवा जहां यह भारत सरकार की औद्योगिक नीति, कुछ समय के लिए लागू, में शामिल विषय से संबंधित हो, समझौता उस नीति के अनुसार हो 10
(ञ) सरकार अथवा भारतीय कंपनी के साथ किए गए समझौते के अनुसार सरकार अथवा भारतीय कंपनी द्वारा देययोग्य तकनीकी सेवा के लिए शुल्क के रूप में आय तथा जहां समझौता भारतीय कंपनी के साथ किया गया हो, समझौता केंद्र सरकार द्वारा अनुमोदित हो अथवा जहां यह भारत सरकार की औद्योगिक नीति, कुछ समय के लिए लागू, में शामिल विषय से संबंधित हो, समझौता उस नीति के अनुसार हो 10
(ट) कोर्इ अन्य आय 30
धारा 196ख - विदेशी निधि के लिए इकाइयों (इस प्रकार की इकाइयों के हस्तांतरण पर दीर्घकालिक पूंजीगत लाभों को शामिल करते हुए) से आय 10
धारा 196ग-विदेशी मुद्रा बांडों या भारतीय कंपनी के जीडीआर से आय (इस प्रकार के बांडों अथवा जीडीआर के हस्तांतरण पर दीर्घकालिक पूंजीगत लाभों सहित) 10
धारा 196घ- प्रतिभूतियों से विदेशी संस्थागत निवेशकों की आय (ऐसी प्रतिभूतियों से अर्जित पूंजीगत लाभ अथवा लाभांश के तौर पर नही) 20

2. कंपनी की स्थिति में -

 
2.1 जहां कंपनी एक घरेलू कंपनी हो -  
धारा 193 : प्रतिभूति पर ब्याज  

(क) केंद्र, राज्य अथवा प्रांतीय अधिनियम द्वारा स्थापित एक निगम अथवा किसी स्थानीय प्राधिकारी की ओर से जारी राशि के लिए कोई डिबेंचर अथवा प्रतिभूति

10
(ख) कंपनी द्वारा जारी कोई डिबेंचर जहां ऐसे डिबेंचर प्रतिभूति अनुबंध (नियामक) अधिनियम, 1956 (1956 की 42) तथा इस आधार पर बने किसी नियम के अनुसार प्राधिकृत स्टॉक एक्सचेंज पर सूचीबद्ध हैं 10

(ग) केंद्र अथवा राज्य सरकार की कोई प्रतिभूति

10
[(यानी 8 प्रतिशत बचत (करयोग्य) बांड, 2003 और 7.75 प्रतिशत बचत (करयोग्य) बांड, 2018)]  

(घ) अन्य किसी प्रतिभूति पर ब्याज

10

धारा 194 : लाभांश

10

धारा 194क : "प्रतिभूति पर ब्याज" को छोड़कर ब्याज के रूप में आय

10

धारा 194ख : लॉटरी, क्रासवर्ड पहेली, कार्ड खेल तथा किसी प्रकार के अन्य खेल से जीत के रूप में आय

30

धारा 194खख : घुड़दौड़ से जीत के रूप में आय

30

धारा 194ग : ठेकेदार/उप-ठेकेदार को भुगतान

 

(क) एचयूएफ/व्यक्ति

1

(ख) अन्य

2

धारा 194घ : इंश्योरेंस कमीशन

10

धारा 194घक : जीवन बीमा पॉलिसी के संबंध में भुगतान

1

धारा 194ड़ड़ : राष्ट्रीय बचत योजना के अंतर्गत जमा के संबंध में भुगतान

10

धारा 194च : म्यूचुअल फंड अथवा यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया द्वारा इकाई की पुनर्खरीद के कारण भुगतान

20

धारा 194छ : लॉटरी टिकट की बिक्री पर कमीशन आदि

5

धारा 194ज : कमीशन अथवा दलाली

5

धारा 194-झ : किराया

 

(क) संयंत्र व मशीनरी

2

(ख) भूमि अथवा भवन अथवा फर्नीचर अथवा फिटिंग

10

धारा 194-झक : कृषि भूमि को छोड़कर कुछ अचल संपत्ति के स्थानांतरण पर भुगतान

1
धारा 194-झग : संयुक्त विकास समझौतों के अंतर्गत मौद्रिक प्रतिफल का भुगतान 10

धारा 194ञ : निम्न के रूप में दी गई कोई राशि

(क) पेशेवर सेवा के लिए शुल्क

(ख) तकनीकी सेवा के लिए शुल्क

(ग) रायल्टी

(घ) निदेशक को पारिश्रमिक/शुल्क/कमीशन

(ड़) किसी व्यापार के संबंध में कोई गतिविधि न करने के लिए

(च) किसी तकनीकी जानकारी, पेटेंट, कॉपीराइट आदि को साझा न करने के लिए

टिप्पणी : प्रभावी तिथि 1 जून, 2017 से, टीडीएस की दर 2 प्रतिशत होगी यदि अदाता कॉल सेंटर के संचालन के व्यापार में संलग्न हो

10

धारा 194ठक : कुछ अचल संपत्ति के अधिग्रहण पर मुआवजे का भुगतान

टिप्पणी : प्रभावी तिथि 1 अप्रैल, 2017 से, कर की कोर्इ भी कटौती उस किसी भी भुगतान के लिए नहीं की जाएगी जो उचित मुआवजा अधिनियम, 2013 के अधिकार के अंतर्गत आयकर के उदग्रहण से मुक्त है

10

धारा 194ठखक (1) : व्यापारिक न्यास को वितरण के दौरान कर कटौती करनी होगी, एसवीपी द्वारा इसके प्राप्त अथवा प्राप्तनीय किसी आय अथवा उसके द्वारा प्रत्यक्ष रूप से किसी अचल संपत्ति को किराये पर अथवा पट्टे पर अथवा भाडे़ पर इसके इकाई धारक को देने से प्राप्त कोर्इ आय

10

धारा 194ठखख : एक र्इकार्इ धारक को आय देने वाला निवेशगत कोष (उस आय को छोड़कर जो धारा 10(23चखख) के अंतर्गत मुक्त है)

10
 धारा 194ठखग : प्रतिभूति न्यास में किए गए निवेश के सम्बन्ध में आय (धारा 194ठखग के स्पस्टीकरण में निर्दिष्ट) 10

अन्य कोई आय

10

2.2 जहां कंपनी एक घरेलू कंपनी न हो

 
धारा 194ख : लॉटरी, क्रासवर्ड पहेली, कार्ड खेल तथा किसी प्रकार के अन्य खेल से जीत के रूप में आय 30

194खख : घुड़दौड़ से जीत के रूप में आय

30

194च : गैर-निवासी खेल संघ को भुगतान

20

धारा 194छ : लॉटरी टिकट की बिक्री पर कमीशन आदि

5
धारा 194ठख : आधारिक संरचना ऋण कोष पर ब्याज का भुगतान 5

धारा 194ठखक (2) : व्यापारिक न्यास अपने इकाई धारकों को एसपीवी से उसके द्वारा प्राप्त अथवा प्राप्तनीय किसी ब्याज आय के वितरण के दौरान कर की कटौती करेगी

5

धारा 194ठखक (3) : व्यापारिक न्यास अपने इकाई धारकों प्रत्यक्ष स्वामित्व वाली किसी रीयल एस्टेट को किराए पर अथवा पट्टे पर अथवा भाडे़ पर देने से प्राप्त किसी आय के वितरण के दौरान कर की कटौती करेगी

40

धारा 194ठखख : निवेशगत कोष इकाई धारक को आय के भुगतान (उस आय को छोड़कर जो धारा 10(23चखख) के अंतर्गत छूट प्राप्त हैं) उससे कर की कटौती करेगी

40
धारा 194ठखग : प्रतिभूति न्यास में किए गए निवेश के सम्बन्ध में आय (धारा 115नगक के स्पस्टीकरण में निर्दिष्ट) 40

धारा 194ठग : दीर्घकालीन बांड के निर्गमन द्वारा अथवा ऋण समझौते के अंतर्गत विदेशी मुद्दा में उधार ली गयी राशि के सम्बन्ध में व्यापारिक न्यास अथवा भारतीय कंपनी द्वारा बयान का भुगतान

टिप्पणी : प्रभावी तिथि 1 अप्रैल, 2018 से ऐसी रियायती टीडीएस दरों के लाभ को तीन वर्षों के लिए आगे बढ़ाया गया है। अब 5 प्रतिशत की रियायती दर पर टीडीएस 1 जुलार्इ, 2020 से पहले लिए गए उधार के लिए लागू होगी।

5

धारा 194ठघ : एक अर्हता प्राप्त विदेशी निवेशक अथवा एक विदेशी संस्थागत निवेशक हेतु सरकारी प्रतिभूति अथवा भारतीय कंपनी के रूपए डोमीनेटिड बांड पर ब्याज का भुगतान

टिप्पणी : प्रभावी तिथि 1 अप्रैल, 2018 से ऐसी रियायती टीडीएस दरों के लाभ को तीन वर्षों के लिए आगे बढ़ाया गया है। अब 5 प्रतिशत की रियायती दर पर टीडीएस 1 जुलार्इ, 2020 से पहले लिए गए उधार के लिए लागू होगी।

5
धारा 195 : अन्य किसी राशि का भुगतान  
(क) धारा 112 की उप-धारा (1) के वाक्यांश (ग) के उप-वाक्यांश (iii) में संदर्भित दीर्घकालीन पूंजीगत लाभ के रूप में आय 10
ख) दीर्घकालीन पूंजी प्राप्तियों के रूप में आय जैसा धारा 112क में संदर्भित है 10
(ग) धारा 111क में संदर्भित अल्प-अवधि पूंजीगत लाभ के रूप में आय 15
(घ) दीर्घ-कालीन प्राप्ति वाक्यांश 10(33), 10(36) और 112क में संदर्भित दीर्घ-कालीन पूंजीगत लाभ के रूप में नहीं)  के रूप में अन्य कोई आय 20
(ड़) विदेशी मुद्रा (धारा 194ठख अथवा धारा 194ठग में संदर्भित ब्याज के रूप में आय के तौर पर नहीं) में भारतीय कंपनी अथवा सरकार द्वारा उधार लिए गए अथवा उधार राशि पर भारतीय कंपनी अथवा सरकार द्वारा देययोग्य ब्याज के रूप में आय 20
(च) सरकार अथवा भारतीय कंपनी के साथ किए गए समझौते के अनुसार सरकार अथवा भारतीय कंपनी द्वारा देययोग्य रॉयल्टी के रूप में आय जहां ऐसी रायॅल्टी भारत में एक निवासी व्यक्ति को आयकर अधिनियम की धारा 115क की उप-धारा (1क) के द्वितीय परंतुक में संदर्भित किसी कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर के संबंध में अथवा भारतीय कंपनी को आयकर अधिनियम की धारा 115क की उप-धारा (1क) हेतु प्रथम परंतुक में संदर्भित विषय पर किसी पुस्तक के कॉपीराइट के संबंध में किसी अथवा सभी अधिकारों (लाईसेंस की स्वीकृति सहित) के स्थानांतरण हेतु विचारनीय हैं 10
(छ) सरकार अथवा भारतीय कंपनी के साथ किए गए समझौते के अनुसार सरकार अथवा भारतीय कंपनी द्वारा देययोग्य रॉयल्टी [उस रूप में शायल्टी के तौर पर नहीं जैसा बिंदु ड़ में संदर्भित है) उक्त ग] के रूप में आय तथा जहां समझौता भारतीय कंपनी के साथ किया गया हो, समझौता केंद्र सरकार द्वारा अनुमोदित हो अथवा जहां यह भारत सरकार की औद्योगिक नीति, कुछ समय के लिए लागू, में शामिल विषय से संबंधित हो, समझौता उस नीति के अनुसार हो  
क. जहां समझौता 31 मार्च 1961 के बाद किया गया हो लेकिन 1 अप्रैल 1976 से पूर्व किया गया हो 50
ख. जहां समझौता 31 मार्च 1976 के बाद किया गया हो 10
(छ) सरकार अथवा भारतीय कंपनी के साथ किए गए समझौते के अनुसार सरकार अथवा भारतीय कंपनी द्वारा देययोग्य तकनीकी सेवा के लिए शुल्क के रूप में आय तथा जहां समझौता भारतीय कंपनी के साथ किया गया हो, समझौता केंद्र सरकार द्वारा अनुमोदित हो अथवा जहां यह भारत सरकार की औद्योगिक नीति, कुछ समय के लिए लागू, में शामिल विषय से संबंधित हो, समझौता उस नीति के अनुसार हो 25
क. जहां समझौता 29 फरवरी 1964 के बाद किया गया हो लेकिन 1 अप्रैल 1976 से पूर्व किया गया हो 50
ख. जहां समझौता 31 मार्च 1976 के बाद किया गया हो 10
(ज) अन्य कोई आय 40

धारा 196ख : इकाई द्वारा आय से (ऐसी इकाई के स्थानांतरण पर दीर्घ-कालीन पूंजीगत लाभ सहित) से विदेशी कोष तक

10
धारा 196ग : भारतीय कंपनी (ऐसे बांड अथवा जीडीआर के स्थानांतरण पर दीर्घ-कालीन पूंजीगत लाभ सहित) के जीडीआर अथवा विदेशी मुद्रा बांड से आय 10
धारा 196घ : प्रतिभूति (ऐसी प्रतिभूति से अर्जित पूजीगत लाभ अथवा लाभांश के तौर पर नहीं) से विदेशी संस्थागत निवेशकों की आय 20
*टीडीएस की दर को लागू होने वाले अधिभार और स्वास्थ्य व शिक्षा उपकर द्वारा बढ़ाया जाएगा 10

 

 

[जैसा वित्त अधिनियम, 2018 द्वारा संशोधित है]