कतिपय मामलों में कीमत का अवधारण-

3. (1) अधिनियम की धारा 2 के खंड 16 के उपखंड (ii) के प्रयोजनों के लिए कीमत का अवधारण निम्नलिखित रीति में किया जाएगा, अर्थात्:-

(क) कोट न किए गए साम्या शेयरों की कीमत निम्नलिखित से उच्चतर होगी,-

  (I) उसके अर्जन की लागत;

 (II) ऐसे साम्या शेयरों का संव्यवहार की तारीख को वाणिज्यिक बैंकर या किसी लेखापाल द्वारा मितीकाटा मुक्त रोकड़ प्रवाह विधि के अनुसार अवधारित उचित बाजार मूल्य; और

(III) निम्नलिखित रीति में यथा अवधारित ऐसे साम्या शेयरों का संव्यवहार की तारीख को मूल्य, अर्थात्:—

 कोट न किए गए साम्या शेयरों का उचित बाजार मूल्य = (ए़+बी-एल×(पीवी)/(पीई) जहां,

ए = सभी आस्तियों का बही मूल्य (बुलियन, आभूषण, बहुमूल्य रत्न, कलाकृतियां, शेयर, प्रतिभूतियों और जंगम संपत्ति से भिन्न), जिसमें से,- (i) आय-कर की संदत्त कोई रकम, यदि कोई हो, घटा दिया गया है, जिससे कम की गई दावा की गई आय-कर प्रतिदाय की कोई रकम, यदि कोई हो, को घटा दिया गया है, और (ii) आस्ति के रूप में उपदर्शित कोई रकम, जिसके अंर्तगत आस्थगित व्यय की अपाकरण न की गई रकम शामिल है, जो किसी आस्ति के मूल्य को उपदर्शित नहीं करती है;

बी = वह कीमत, जो बुलियन, आभूषण, बहुमूल्य रत्न, कलाकृतियां, शेयर, प्रतिभूतियां और जंगम संपत्ति की खुले बाजार में संव्यवहार की तारीख को बिक्री से साधारणतया प्राप्त होता;

एल = दायित्वों का वही मूल्य किंतु जिसके अंतर्गत निम्नलिखित रकम शामिल नहीं है, अर्थात:-

  (i) साम्या शेयरों के संबंध में समादत्त पूंजी;

 (ii) अधिमानी शेयरों और साम्या शेयर पर लाभांश के संदाय के लिए अलग रखी गई रकम;

(iii) अवक्षयण के लिए अलग रखें गए से भिन्न आरक्षितियां और आधिक्य, चाहे किसी भी नाम से ज्ञात हो, यहां तक कि यदि परिणामी संख्या नकारात्मक है तो भी;

(iv) सम्बद्ध लागू विधियों के अनुसार बही खाता लाभों के संदर्भ में संदेय कर से आधिक्य के परिमाण तक संदत्त आय-कर की रकम, यदि कोई हो, से प्रतिदाय के रूप में दावा की गई आय-कर की रकम, यदि कोई हो, घटाकर से भिन्न कर के लिए उपबंधों को उपदर्शित करने वाली कोई रकम;

 (v) अभिनिश्चित दायित्वों से भिन्न दायित्वों को चुकाने के लिए किए गए उपबंधों को उपदर्शित करने वाली कोई रकम;

(vi) संचयी अधिमानी शेयरों के संबंध में संदेय लाभांश के बकाया से भिन्न आकस्मिक दायित्वों को उपदर्शित करने वाली कोई रकम;

पीई = तुलन-पत्र में यथा उपदर्शित समादत्त शेयर पूंजी की कुल रकम;

पीवी = ऐसे साम्या शेयरों का समादत्त मूल्य;