भारत सरकार

वित्त मंत्रालय

राजस्व विभाग

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड

 

नर्इ दिल्ली, 7 दिसंबर,2019

 

प्रेस विज्ञप्ति

 

आयकर विभाग द्वारा पूरे भारतवर्ष में शेयर ब्रोकरों/ट्रेडर्स के खिलाफ तलाशी और सर्वेक्षण अभियान का आयोजन

 

3 दिसंबर 2019 को, आयकर विभाग ने कुछ ऐसे शेयर ब्रोकर/ट्रेडर्स के खिलाफ तलाशी और सर्वेक्षण अभियान चलाया जो बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसर्इ) पर इक्विटी डेरेवेटिव सैगमेंट और साथ ही करंसी डेरिवेटिव सैगमेंट में अनकदी स्टॉक विकल्पों में रिवसर्ल ट्रेडर्स के माध्यम से लाभ/हानि की सुविधा में शामिल थे। मुंबर्इ, कोलकाता, कानपुर, दिल्ली, नोएडा, गुरूग्राम, हैदराबाद और गाजियाबाद में फैले 39 से अधिक स्थलों को कवर किया गया।

तलाशी/सर्वेक्षण से पूरी कार्यप्रणाली का पता चला जिसको इक्विटी डेरिवेटिव सैगमेंट में अनकदी स्टॉक विकल्पों में व्यापारित करने के लिए शेयर ब्रोकरों/ट्रेडर्स द्वारा अपनाया गया है और जिसके चलते बेहद कम समय में रिवर्सल ट्रेड के निष्पादन द्वारा कृत्रिम लाभ/हानि को सृजित किया गया। इस विवादास्पद कार्यप्रणाली के चलते शंका रहित उद्यमों ने वांछित लाभ/हानि, जिसके रू. 3500 करोड़ से अधिक होने का अनुमान है, को सुरक्षित किया। तलाशी/सर्वेक्षण कार्यवाही का परिणाम में बीएसर्इ में कम से कम 3 पैनी स्टॉक में लिए गए दोषपूर्ण दीर्घकालीन पूंजी प्राप्ति की पहचान भी शामिल है जहां लाभार्थियों द्वारा प्रयुक्त लाभ में हेरफेर कुल रू. 2000 करोड़ है।

तलाशी अभियान से रू. 1.20 करोड़ के बेहिसाब नकद की जब्ती शामिल है। उन कर्इ लाभार्थियों जिन्होंने इन गलत लेनदेन द्वारा लाभ उठाया है वह भारतवर्ष में फैले कुछ हजार का हो सकता है और उनकी पहचान के प्रयास किए जा रहे हैं चूंकि आय की संगत मात्रा को भी बचाया गया है। तलाशी अभियान के दौरान कर्इ भेदभावपूर्ण साक्ष्य मिले जिनकी जांच विभिन्न प्रत्यक्ष कर कानूनों के उल्लंघन को निर्धारित करने के लिए की जा रही है।

 

(सुरभि आहलूवालिया)

आयकर आयुक्त

(मीडिया व तकनीकी नीति)

आधिकारिक प्रवक्ता, सीबीडीटी