भारत सरकार

प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त (बिहार एवं झारखंड), कार्यालय

केंद्रीय राजस्व भवन, बीर चंद पटेल मार्ग, पटना - 800001

दूरभाष : 2504020-22, (पीबीएक्स) 2504580-82, फैक्स - 0612-2504033/40

 

आदेश

पटना, दिनांक, 19 अप्रैल, 2016

 

आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 17 के वाक्यांश (2) हेतु परंतुक (उप-वाक्यांश (viii) के वाक्यांश (ii) के उप-वाक्यांश (ख) के अंतर्गत अनुमति आदेश

 

एफ.नं. 80037/17/2015-16/.......................... आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 17 के वाक्यांश (2) हेतु परंतुक (उप-वाक्यांश (viii) के वाक्यांश (ii) के उप-वाक्यांश (ख) के अंतर्गत मुझे प्राप्त अधिकारों का प्रयोग करते हुए, मैं प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त (बिहार एवं झारखंड), पटना, अस्पताल के अनुमोदन की स्वीकृति के लिए आयकर नियम, 1962 के नियम 3क(1) व 3क(2) में निर्दिष्ट दिशानिर्देशों के संबंध में, एतद्द्वारा आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 17 के वाक्यांश (2) हेतु परंतुक (उप-वाक्यांश (vii) के वाक्यांश (ii) के कथित उप-वाक्यांश (ख) के उद्देश्यों के लिए श्री सार्इं अस्पताल (ए यूनिट ऑफ अखिलेश कुमार सिंह हॉस्पिटल प्रा. लि.), जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के पीछे, राजेन्द्र नगर ओवर ब्रिज, के पश्चिम में, कांकरबाग, पटना-800020 को अनुमति पर सहमति देते हैं।

2. तद्नुसार, आयकर नियम, 1962 के नियम 3क(2) के अंतर्गत निर्धारित निम्नलिखित रोगों अथवा बीमारियों के संबंध में उक्त निर्दिष्ट अस्पताल में कर्मचारी के अपने चिकित्सा उपचार अथवा परिवार के अन्य सदस्य के चिकित्सा उपचार पर वास्तविक रूप से किए गए किसी व्यय के संबंध में कर्मचारी द्वारा दी गर्इ कोर्इ राशि आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 15, 16 तथा 17 के उद्देश्यों के लिए अनुदान के तौर पर नहीं समझी जाएगी।

(क) कैंसर

(ख) क्षय

(ग) एड्स

(घ) हृदय (नान इनवेसिव), खून, लिंप ग्लैंड, श्वसन प्रणाली, केंद्रीय स्नायु तंत्र, मूत्र प्रणाली, यकृत, पित्ताशय, पाचन तंत्र, नलिकाहीन ग्रंथी अथवा सर्जिकल आपरेशन वाली त्वचा संबंधी बीमारी अथवा रोग

(ड़) कान, नाक अथवा गले जिसको सर्जिकल ऑपरेशन की आवश्यकता हो, संबंधी बीमारी अथवा रोग

(च) कंकाल प्रणाली के किसी भाग में फ्रैक्चर अथवा कशेरूकाओं के विस्थापन जिनको सर्जिकल ऑपरेशन की आवश्यकता हो अथवा आर्थोपेडिक उपचार

(छ) स्त्री रोग अथवा प्रसूति संबंधी रोग अथवा बीमारी जिनको सर्जिकल ऑपरेशन की आवश्यकता है, सिजेरियन ऑपरेशन अथवा लेप्रोस्कोपिक इंटरवेंशन

(ज) कम से कम निरंतर तीन दिनों के लिए अस्पताल में चिकित्सा उपचार की आवश्यकता वाले (घ) में निर्दिष्ट अंगों की बीमारी तथा रोग

(झ) कम से कम निरंतर तीन दिनों के लिए स्त्री रोग अथवा प्रसूति संबंधी रोग अथवा बीमारी जिनको चिकित्सा उपचार की आवश्यकता हैं,

(ञ) कम से कम निरंतर तीन दिनों के लिए अस्पताल में जलन चोट वाली चिकित्सा उपचार की आवश्यकता

(ट) कम से कम निरंतर सात दिनों के लिए मादक पदार्थों की लत के अस्पताल में चिकित्सा उपचार की आवश्यकता

(ठ) मानसिक विकार - विक्षिप्त अथवा मानसिक - जिनकसे कम से कम तीन निरंतर दिनों के लिए अस्पताल में चिकित्सा उपचार की आवश्यकता हैं।

(ड) कम से कम निरंतर सात दिनों के लिए अस्पताल में चिकित्सा उपचार की आवश्यकता वाले इंसुलिन शॉक, मादक पदार्थों का प्रभाव तथा अन्य एलर्जी प्रकटीकरण सहित सदमा शॉक

3. उक्तानुसार मंजूरी अनुमोदन आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 17 के वाक्यांश (2) हेतु परंतुक (उप-वाक्यांश (viii) के वाक्यांश (ii) के उप-वाक्यांश (ख) के उद्देश्य के लिए ही है तथा किसी अन्य उद्देश्य(यों) के लिए केंद्र सरकार अथवा प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त (बिहार एवं झारखंड), पटना अथवा सरकार के अंतर्गत किसी अन्य सांविधिक प्राधिकारी के अनुमोदितानुसार नहीं लगाया जाना चाहिए।

4. यह अनुमोदन निम्नलिखित शर्तों तथा नियमों के अनुसार है :

  (i) यह अनुमोदन हस्तांतरणीय नहीं है

 (ii) अनुमोदन भारतीय चिकित्सा प्रणाली तथा होमयोपैथी उपचार को अंतनिर्हित नहीं होगा

(iii) अस्पताल समस्त उपयुक्त समय पर आयकर विभाग के ऐसे अधिकारियों द्वारा निरीक्षण के लिए खुला होगा जैसा इस संबंध में विधिवत रूप से प्राधिकृत है

(iv) अनुमोदन ऐसे अनुमोदन की स्वीकृति को शासित करने वाली सांविधिक प्रावधानों/शर्तों के अस्पताल के निरंतर अनुपालन के अनुसार है तथा साथ ही संशोधन/निरस्ती के अनुसार भी है, यदि अनुमोदन की स्वीकृति वाले शासी सांविधिक प्रावधानों हेतु उत्तरगामी परिवर्तनों/संशोधनों द्वारा अनिवार्य हैं।

 (v) अनुमोदन किसी भी समय निरस्ती का विषय है यदि यह पाया जाता है कि अनुमोदन तथ्यों अथवा आवश्यक शर्तों की गलत बयानी का विषय हैं जैसा आयकर नियम, 1962 के नियम 3क के उप-नियम (1) में संलग्न है।

(vi) अस्पताल आयकर नियम, 1962 के नियम 3क(1) व 3क(2) में निर्दिष्टानुसार ऐसी शर्तों को पुष्ट करेगा। इस स्थिति में अस्पताल कानून द्वारा निर्धारित किसी भी शर्त को पूरा करने के लिए बाध्य है, अस्पाल की ओर से यह अनिवार्य होगा कि वह तुरंत ऐसे तथ्यों के अनुमोदन को जारी करने वाले प्राधिकारी को अधिसूचित करें।

5. यह अनुमोदन 1 अप्रैल, 2016 से प्रभावी होगा तथा तीन वर्षों अर्थात् 31.03.2019 तक प्रभावी रहेगा। अनुमोदन के नवीकरण के लिए आवेदन वर्तमान अनुमोदन की समाप्ति से पूर्व कम से कम 30 दिनों में जमा किया जाना चाहिए।

 

(एस.टी. अहमद)

प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त

(बिहार व झारखंड), पटना

 

सेवा में,

निदेशक

श्री सार्इं अस्पताल,

(यूनिट ऑफ अखिलेश कुमार सिंह हास्पिटल प्रा. लि.)

भारतीय भूविज्ञान सर्वेक्षण के पीछे

राजेन्द्र नगर ओवर ब्रिज का पश्चिम

कंकारबाग, पटना-800020

मीमो नं. 80037/17/2015-16/354 पटना, दिनांक, 19.04.2016

निम्न को प्रति :-

 

  1. संयुक्त सचिव, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड, नर्इ दिल्ली

  2. आयकर महानिदेशक (अन्वे.), पटना

  3. आयकर निदेशक, वेबसाइट पर छपने के लिए, नर्इ दिल्ली

  4. भारत में समस्त प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त

  5. मुख्य आयकर आयुक्त, रांची/समस्त आयकर आयुक्त, बिहार तथा झारखंड क्षेत्र

 

(संजय कुमार)

आयकर अधिकारी (टेक-1)

कृते प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त (बिहार एवं झारखंड), पटना