एफ. नं. 142/24/2015-टीपीएल

भारत सरकार

वित्त मंत्रालय

राजस्व विभाग

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड

(टीपीएल प्रभाग)

***

 

नर्इ दिल्ली, 18 अप्रैल, 2016

 

विषय : आयकर अधिनियम की धारा 90/90क/91 के अंतर्गत आयकर की कटौती अथवा राहत देने के लिए मसौदा नियम - संबंधी

 

आयकर अधिनियम, 1961 (अधिनियम) की धारा 295 की उप-धारा (2) का वाक्यांश (जक) मुहैया कराता है कि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) अधिनियम के अंतर्गत देययोग्य आयकर के समक्ष धारा 90 अथवा धारा 90क अथवा धारा 91 के अंतर्गत किसी देश में अथवा भारत के बाहर किसी निर्दिष्ट क्षेत्र की राहत अथवा छूट, जो भी स्थिति हो, के अनुदान के लिए प्रक्रिया को निर्दिष्ट करते हुए नियमों को निर्दिष्ट कर सकता हैं।

II. एक समिति को इससे संबंधित विभिन्न मुद्दों की जांच के पश्चात् विदेशी कर ऋण (एफटीसी) के अनुदान के लिए कार्यप्रणाली के सुझाव देने के लिए केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड द्वारा स्थापित किया गया था। विभिन्न हितधारकों द्वारा उठाए गए मुद्दों पर नियत विचार करने के पशचात्, समिति ने अपनी रिपोर्ट को जमा किया। इसे ध्यान में रखते हुए, समिति की रिपोर्ट तथा अधिनियम के प्रावधानों एफटीसी के अनुदान के लिए मसौदा नियम प्रस्तावित हैं जो निम्नानुसार हैं :

(1) निवासी के तौर पर एक निर्धारिती उस वर्ष में कटौती अथवा अन्यथा के रूप में देश में अथवा भारत के बाहर निर्दिष्ट क्षेत्र में उसके द्वारा दिए गए किसी विदेशी कर की राशि के लिए ऋण की स्वीकृति होगी जिसमें ऐसे कर हेतु तत्स्थानी आय को इस नियम में निर्दिष्टानुसार सीमा तक प्रणाली में भारत में कर के लिए मूल्यांकित अथवा कर के लिए प्रस्ताव दिया गया हो।

(2) विदेशी कर का अर्थ होगा;

(क) राष्ट्र अथवा निर्दिष्ट क्षेत्र के संबंध में जिसके साथ भारत ने अधिनियम की धारा 90 अथवा 90क, कथित समझौते के अंतर्गत अंतर्निविष्ट कर की शर्त में आय के दोहरे कराधान के परिहार के लिए एक समझौता किया है

(ख) किसी अन्य राष्ट्र अथवा निर्दिष्ट क्षेत्र के संबंध में, धारा 91 हेतु स्पष्टीकरण के वाक्यांश (iv) में संदर्भित आयकर के रूप में उस राष्ट्र में प्रभावी कानून के अंतर्गत देययोग्य कर

(3) विदेशी कर का ऋण अधिनियम के अंतर्गत देययोग्य कर, अधिभार तथा अधिकर की राशि के समक्ष उपलब्ध होगा लेकिन ब्याज, शुल्क अथवा जुर्माने के रूप में देययोग्य किसी राशि के सबंध में नहीं

(4) कोर्इ ऋण विदेशी कर की किसी राशि के संबंध में उपलब्ध नहीं होगा जो निर्धारिती द्वारा किसी प्रणाली में विवादित है।

(5) विदेशी कर का ऋण विशेष राष्ट्र अथवा निर्दिष्ट क्षेत्र से उत्पन्न आय के प्रत्येक स्रोत के लिए पृथक रूप से आंके गए ऋण की राशि का कुल होगी तथा निम्नलिखित तरीके में प्रभावी है

  (i) ऋण ऐसी आय पर दिए गए विदेशी कर तथा ऐसी आय पर अधिनियम के अंतर्गत देययोग्य कर का न्यून होगा।

 (ii) ऋण उस तिथि पर टेलीग्राफी हस्तांतरण खरीद दर पर विदेशी कर के भुगतान की मुद्रा के रूपांतरण द्वारा निर्धारित होगा जब ऐसा कर दिया गया अथवा काटा गया हो

(6) यदि जहां कोर्इ कर अधिनियम की धारा 115ञख अथवा 115ञग के प्रावधानों के अंतर्गत देययोग्य हो तो विदेशी कर का ऋण उसी तरीके में ऐसे कर के समक्ष स्वीकृत होगा जैसा अधिनियम के सामान्य प्रावधानों के अंतर्गत देययोग्य कोर्इ कर हो।

(7) जहां धारा 115ञख अथवा 115ञग के प्रावधानों के अंतर्गत देययोग्य कर के समक्ष उपलब्ध विदेशी ऋण की राशि सामान्य प्रावधानों के समक्ष उपलब्ध ऋण की राशि से अधिक होता है तो धारा 115ञख अथवा धारा 115ञग के अंतर्गत दिए गए करों के संबंध में धारा 115ञकक अथवा धारा 115ञघ, जो भी स्थिति हो, के अंतर्गत ऋण की राशि की गणना के दौरान, ऐसे अतिरिक्त को नजरअंदाज किया जाएगा।

(8) किसी विदेशी कर को कोर्इ ऋण स्वीकृत नहीं होगा जबतक निम्नलिखित दस्तावेज निर्धारिती द्वारा प्रस्तुत न किए जाते हों, जिनके नाम हैं :-

  (i) निर्धारिती द्वारा दिए गए अथवा वहां से कर कटौती की राशि तथा आय के रूप को निर्दिष्ट करते हुए भारत के बाहर के राष्ट्र अथवा निर्दिष्ट क्षेत्र का कर प्राधिकारी द्वारा प्रमाणपत्र। हालांकि, यदि जहां विदेशी कर स्रोत पर काटा जाता है जो निर्धारिती ऐसे कर की कटौती के लिए उत्तरदायी व्यक्ति से कर कटौती का प्रमाणपत्र प्रस्तुत कर सकता हैं।

 (ii) कर भुगतान, जहां विदेशी कर का भुगतान निर्धारिती द्वारा किया गया हो, के लिए चालान अथवा पर्ची अथवा बैंक प्रतिपर्ण अथवा ऑनलाइन कर भुगतान की पावती

(iii) एक घोषणा कि उसके संबंध में विदेशी कर की राशि जहां ऋण को किसी विवाद के अंतर्गत दावा नहीं किया जा रहा है।

III. उक्त मसौदा नियमों पर हितधारकों तथा सामान्य जनों की टिप्पणी तथा सुझाव आमंत्रित हैं। टिप्पणियां तथा सुझाव र्इ-मेल पते (dirtp14@nic.in) अथवा लिफाफे पर "लिखित विदेशी कर ऋण के लिए मसौदा नियमों पर टिप्पणियां" सहित निम्नलिखित पते पर डाक द्वारा 2 मर्इ, 2016 तक जमा की जा सकती हैं।

 

निदेशक (कर नीति एवं विधान)-IV

केद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड

कक्ष सं. 147-एफ,

नार्थ ब्लॉक, नर्इ दिल्ली-110 001