रिबन आदेश छोड़ें
मुख्य सामग्री को छोड़ें

Skip Navigation Linksपूछे जाने वाले प्रश्न [FAQs]
इस सूची  में पोर्टल के सभी पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ) शामिल होंगे

  
  
पूरा नाम
  
  
  
श्रेणी
  
जवाब
  
अनुमोदित
क्या एक व्यक्ति या हिंदू अविभाजित परिवार (एचयूएफ) से प्राप्त मौद्रिक उपहार कर योग्य है?
1D8406A0-5C94-4031-81EE-389F572988BE00000000000000083310व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

निम्न स्थितियों से संतुष्ट हैं तो एक व्यक्ति / एचयूएफ द्वारा प्राप्त पैसे की कोर्इ भी राशि (यानी, मौद्रिक उपहार आदि नकद, चेक, ड्राफ्ट, में प्राप्त किया जा सकता है) कर योग्य होगी (*):

  • बिना किसी प्रतिफल के प्राप्त की गयी राशि

  • वर्ष के दौरान प्राप्त धन की इतनी राशि का कुल मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है.

(*) पैसे की राशि एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्राप्त पर कर नहीं लगाया जा सकता है स्थितियों के लिए अगले पूछे जाने वाले प्रश्न देखें, यानी, मौद्रिक उपहार पर कर नहीं लिया जाता है। ​

  
अनुमोदित
क्या ऐसा कोर्इ मामला है जिसमें बिना किसी प्रतिफल के प्राप्त की गयी राशि यानी व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्राप्त मौद्रिक उपहार पर कर नहीं लगाया गया है?
4B87EF93-4B52-4198-BF34-3D0A6A4EA83F00000000000000083300व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

यदि ​पूछे जाने वाले पूर्ववर्ती प्रश्नों में दी गर्इ शर्तें पूरी हो रही हैं तो बिना किसी प्रतिफल के एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्राप्त धन की राशि (अर्थात, मौद्रिक उपहार) पर कर लगाया जयेगा। हालांकि, निम्नलिखित मामलों में मौद्रिक उपहार पर कर नहीं लगाया जायेगा।

  • रिश्तेदारों (*) से प्राप्त किया गया धन।

  • एक एचयूएफ द्वारा अपने सदस्यों से प्राप्त किया गया धन।

  • व्यक्ति के विवाह के अवसर पर प्राप्त किया गया धन।

  • वसीयत के तहत / विरासत के माध्यम से प्राप्त किया गया धन।

  • भुगतानकर्ता या दाता की मौत के प्रतिफल में प्राप्त किया गया धन।

  • आयकर अधिनियम की धारा 10 (20) के तहत परिभाषित एक स्थानीय प्राधिकारी से प्राप्त किया गया धन।

  • किसी फंड, फाउंडेशन, विश्वविद्यालय, अन्य शैक्षणिक संस्थान, अस्पताल या अन्य चिकित्सा संस्था, किसी ट्रस्ट या धारा 10 (23ग)​ में निर्दिष्ट किसी संस्था से प्राप्त किया गया धन।

  • एक ट्रस्ट या धारा 12कक​ के तहत पंजीकृत संस्था से प्राप्त किया गया धन।

(*) इस प्रयोजन के लिए रिश्तेदार का मतलब:

(क) व्यक्ति के पति/पत्नी;

(ख) व्यक्ति के भार्इ या बहन;

(ग) व्यक्ति के जीवनसाथी के भार्इ या बहन;

(घ) व्यक्ति के माता-पिता में से किसी के भार्इ या बहन;

(ङ) व्यक्ति का कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(च) व्यक्ति के जीवनसाथी के कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(छ) बिंदु (ख) से (च) तक उल्लिखित व्यक्तियों के पति या पत्नी।  ​

  
अनुमोदित
क्या शादी के आलावा अन्य कोर्इ अवसर भी है जिस अवसर पर एक व्यक्ति द्वारा प्राप्त मौद्रिक उपहार पर कर नहीं लिया जायेगा? ​
24489DFE-4452-49fc-9738-960FF1BE0D7A00000000000000083280व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत; एओपी / बीओआई; एलएलपी
केवल व्यक्ति के विवाह के अवसर पर मिले उपहारों पर कोर्इ कर वसूल नहीं किया जाता। विवाह के आलावा कोर्इ भी अन्य अवसर नहीं है जिसमें एक व्यक्ति द्वारा प्राप्त उपहार पर कर नहीं लिया जाता है। इसलिए, जन्मदिन, शादी की सालगिरह, आदि जैसे मौकों पर प्राप्त उपहार पर कर लगाया जायेगा। ​
  
अनुमोदित
क्या मित्रों से प्राप्त मौद्रिक उपहार कर योग्य है?
98456086-A9CC-4808-B809-CD2C3C0D412200000000000000083270व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत; एओपी / बीओआई; एलएलपी

रिश्तेदारों से प्राप्त उपहार पर कर नहीं लगाया जाता है। इस उद्देश्य के लिए रिश्तेदार का मतलब:

(क) व्यक्ति के पति/पत्नी;

(ख) व्यक्ति के भार्इ या बहन;

(ग) व्यक्ति के जीवनसाथी के भार्इ या बहन;

(घ) व्यक्ति के माता-पिता में से किसी के भार्इ या बहन;

(ङ) व्यक्ति का कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(च) व्यक्ति के जीवनसाथी के कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(छ) बिंदु (ख) से (च) तक उल्लिखित व्यक्तियों के पति या पत्नी।

जैसा कि उपरोक्त में परिभाषित है मित्र एक रिश्तेदार नहीं है और इसलिए, मित्रों से प्राप्त उपहार पर कर वसूल किया जाएगा। (अगर उपहार पर कर लगाने के अन्य मानदंड पूरे होते हैं तो) ​

  
अनुमोदित
क्या विदेशों से प्राप्त मौद्रिक उपहार पर कर लगाया जायेगा?
1C14533E-E6E8-4339-A3A5-83BBE46DD43200000000000000083260व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
यदि एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा वर्ष के दौरान प्राप्त मौद्रिक उपहार का कुल मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है और उपहार पूर्ववर्ती अकसर किये गए सवाल में निर्धारित, अपवाद के तहत शामिल नहीं हैं तो उपहार चाहे भारत से प्राप्त किये गए हों या विदेशों से उन पर कर वसूल किया जायेगा।
  
अनुमोदित
एक व्यक्ति अपने दोस्तों से, विभिन्न उपहार (नकद) प्राप्त करता है, उनमें से किसी भी उपहार का मूल्य 50,000 रुपये से अधिक नहीं था लेकिन वर्ष के दौरान प्राप्त हुए कुल उपहार 50,000 रुपये से अधिक था। इस तरह के एक मामले में कर उपचार क्या होगा?
8F47DDC3-BD60-4a0a-A5E6-8C8969761E6700000000000000083250व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्रतिफल के बिना प्राप्त पैसे की राशि, वर्ष के दौरान प्राप्त ऐसी राशि का कुल मूल्य अगर 50,000 रुपये से अधिक है तो ऐसी राशि कर के दायरे में होती है।

इस संबंध में ध्यान देने वाली महत्वपूर्ण बात "वर्ष के दौरान प्राप्त ऐसी राशि का कुल मूल्य" है। उपहार की कर देयता वर्ष के दौरान प्राप्त उपहार के कुल मूल्य के आधार पर निर्धारित की जाती है और न कि व्यक्तिगत उपहार के आधार पर। इसलिए, अगर वर्ष के दौरान प्राप्त उपहारों का कुल मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है तो वर्ष के दौरान प्राप्त इस तरह के उपहारों के कुल मूल्य पर कर वसूल किया जायेगा। ​

  
अनुमोदित
अगर एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा वर्ष के दौरान प्राप्त उपहारों का कुल मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है तो क्या उपहार की कुल राशि पर कर वसूल किया जाएगा या केवल जितनी राशि 50,000 रुपये से अधिक होगी उस पर कर वसूल किया जाएगा?
1038C607-FEE0-419e-B637-706613052AD000000000000000083240व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्रतिफल के बिना प्राप्त पैसे की राशि पर कर लगाया जाता है अगर वर्ष के दौरान प्राप्त ऐसी राशि का कुल मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है। एक बार वर्ष के दौरान प्राप्त मौद्रिक उपहार का कुल मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है फिर वर्ष के दौरान प्राप्त उपहार का कुल मूल्य पर कर लगाया जायेगा। ​
  
अनुमोदित
एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा उपहार के रूप में प्राप्त अचल संपत्ति पर कर लगाया जाता है?
97E2D59C-AA7B-447d-BAEC-5FDF7662DC7600000000000000083230व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

अगर निम्न स्थितियां संतुष्ट हैं तो एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्राप्त अचल संपत्ति पर कर वसूल किया जायेगा:

  • अचल संपत्ति, भूमि या भवन या दोनों एक व्यक्ति / एचयूएफ को प्राप्त होता है।

  • अचल संपत्ति प्रतिफल के भुगतान के बिना प्राप्त होती है (यानी, एक उपहार के रूप में प्राप्त) या एक प्रतिफल के भुगतान के बदले जो संपत्ति के स्टांप शुल्क मूल्य से 50,000 रुपये की एक राशि से अधिक कम है।

  • ऐसे व्यक्ति या एचयूएफ के लिए धारा 2(14)​ के अर्थ के भीतर अचल संपत्ति एक "पूंजी परिसंपत्ति" है।

  • प्रतिफल के बिना प्राप्त ऐसी अचल संपत्ति का स्टांप शुल्क मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है।

(*) ऐसी स्थितियों के लिए जिनमें एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्रतिफल के बिना प्राप्त अचल संपत्ति (यानी, एक उपहार के रूप में प्राप्त) पर कर नहीं वसूल किया जाता अगले अक्सर किये गए सवाल देखें।

  
अनुमोदित
क्या ऐसा कोर्इ मामला है जिनमें एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्रतिफल के बिना प्राप्त अचल संपत्ति (यानी, एक उपहार के रूप में प्राप्त) पर कर नहीं वसूल किया जाता?
6C474D19-7B91-4dc1-8433-4C5B328B708400000000000000083220व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

अगर पूर्ववर्ती अक्सर किये गए सवाल में दी गर्इ शर्तें संतुष्ट हैं तो एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्रतिफल के भुगतान के बिना (अर्थात, उपहार के माध्यम से) प्राप्त अचल संपत्ति पर कर वसूल किया जायेगा। हालांकि, निम्नलिखित मामलों में उपहार के रूप में प्राप्त अचल संपत्ति पर कर वसूल नहीं किया जायेगा:

  • रिश्तेदारों (*) से प्राप्त संपत्ति।

  • एचयूएफ द्वारा अपने सदस्यों से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • व्यक्ति के शादी के अवसर पर प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • वसीयत के तहत / विरासत के माध्यम से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • दाता की मौत के कारण प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • आयकर अधिनियम की धारा 10(20) के तहत परिभाषित एक स्थानीय प्राधिकारी से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • किसी फंड, फाउंडेशन, विश्वविद्यालय, अन्य शैक्षणिक संस्थान, अस्पताल या अन्य चिकित्सा संस्था, किसी ट्रस्ट या धारा 10(23ग) में निर्दिष्ट किसी संस्था से प्राप्त किया गया धन।

  • एक ट्रस्ट या धारा 12कक​ के तहत पंजीकृत संस्था से प्राप्त किया गया धन।

(*) इस प्रयोजन के लिए रिश्तेदार का मतलब:

(क) व्यक्ति के पति/पत्नी;

(ख) व्यक्ति के भार्इ या बहन;

(ग) व्यक्ति के जीवनसाथी के भार्इ या बहन;

(घ) व्यक्ति के माता-पिता में से किसी के भार्इ या बहन;

(ङ) व्यक्ति का कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(च) व्यक्ति के जीवनसाथी के कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(छ) बिंदु (ख) से (च) तक उल्लिखित व्यक्तियों के पति या पत्नी। ​

  
अनुमोदित
​ वार्षिक सूचना विवरणी (एआर्इआर) क्या है?​
5C38DD40-D480-47be-9A02-3ECE67DAAD9700000000000000074150वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
​आयकर नियम, 1962 के नियम 114ड़ के साथ पढ़े जाने पर आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 285खक​ के अनुसार, निर्दिष्ट संस्थाओं (दाखिलकर्ता) को आयकर प्राधिकारी या ऐसे अन्य विहित प्राधिकारी को वित्तीय वर्ष (1 अप्रैल, 2004 को या उसके बाद शुरू) के दौरान दर्ज/पंजीकृत निर्दिष्ट वित्तीय लेनदेन के संबंध में एक वार्षिक सूचना विवरणी (एआर्इआर) प्रस्तुत करना आवश्यक है।
  
अनुमोदित
एक व्यक्ति ने अपने दोस्त से तीन संपत्तियों का उपहार प्राप्त किया। किसी भी संपत्ति का स्टाम्प मूल्य 50,000 रुपये से अधिक नहीं था लेकिन इन तीन संपत्तियों का कुल स्टाम्प मूल्य 50,000 रुपये से अधिक था। इस मामले में उपहार का कर उपचार क्या होगा?
2332BF18-B744-4851-A051-B29AC84877DD00000000000000083210व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
एक व्यक्ति या एचयूएफ से, प्रतिफल के बिना प्राप्त अचल संपत्ति के मामले में 50,000 रुपये की सीमा प्रत्येक लेन-देन के लिहाज से लागू किया जाता है और यह 50,000 रुपये की सीमा वर्ष के दौरान उपहार के रूप में प्राप्त सभी अचल संपत्तियों को जोड़ कर लागू करने के लिए नहीं है। इसलिए, अगर वर्ष के दौरान उपहार के रूप में प्राप्त अचल संपत्तियों का कुल स्टाम्प मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है लेकिन किसी भी संपत्ति का स्टाम्प मूल्य 50,000 रुपये से अधिक नहीं है तो कोर्इ भी कर वसूल नहीं किया जायेगा। ​
  
अनुमोदित
अगर एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा इसके उचित बाजार मूल्य से कम पर प्राप्त निर्धारित चल संपत्ति प्राप्त होता है तो क्या कोर्इ कर देयता उत्पन्न होती हैं?
1A4599EE-E4A1-4079-B7C8-18A8396EC57C00000000000000074149वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

अगर निम्न स्थितियां संतुष्ट हैं तो एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्राप्त चल संपत्ति के लिए निर्धारित मूल्य (*) पर कर वसूल किया जायेगा$:

  • निर्धारित चल संपत्ति का एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा अधिग्रहण कर लिया गया है।

  • वर्ष के दौरान करदाता द्वारा अधिग्रहीत ऐसी संपत्तियों का कुल उचित बाजार मूल्य इसके प्रतिफल से 50,000 रुपये अधिक है। दूसरे शब्दों में, इस तरह के सभी संपत्तियों का कुल उचित बाजार मूल्य इसके प्रतिफल से अधिक है और अंतर 50,000 रुपए से अधिक है।

(*) निर्धारित चल संपत्ति का मतलब शेयर / प्रतिभूतियां, आभूषण, पुरातात्विक संग्रह, चित्र, पेंटिंग, मूर्तियां या कला और बुलियन का कोर्इ भी काम जो करदाता की पूंजी परिसंपत्ति है।

उपरोक्त परिभाषा को देखते हुए, किसी भी उपहार के संबंध में किसी भी मद के एक चल संपत्ति उपरोक्त परिभाषा में शामिल की तुलना में अन्य, कोर्इ भी कर वसूल नहीं किया जायेगा। जैसे, उपहार के रूप में प्राप्त किये गए एक टीवी सेट के संबंध में कोर्इ भी कर वसूल नहीं किया जायेगा। क्योंकि एक टीवी सेट निर्धारित चल संपत्ति का परिभाषा में शामिल नहीं है।

($) उन स्थितियों के लिए जिसमें एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा किसी प्रतिफल के भुगतान के बिना अर्थात उपहार के रूप में प्राप्त निर्धारित चल संपत्ति पर कर नहीं लगाया जाता, अगले पूछे जाने वाले प्रश्न देखें। ​

  
अनुमोदित
विदेश में स्थित अचल सम्पत्ति से उपहार कर हेतु उत्तरदायी है​
929D4261-1406-4f69-BE8D-0B2944AE780800000000000000083200व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
यदि एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा वर्ष के दौरान प्राप्त मौद्रिक उपहार का कुल मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है और उपहार पूर्ववर्ती अकसर किये गए सवाल में निर्धारित, अपवाद के तहत शामिल नहीं हैं तो उपहार चाहे भारत से प्राप्त किये गए हों या विदेशों से उन पर कर वसूल किया जायेगा।
  
अनुमोदित
क्या मित्रों से उपहार के रूप में प्राप्त अचल संपत्ति कर योग्य है?
09EA97F8-409E-4b78-9211-90E5108085A500000000000000083190व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

रिश्तेदारों से प्राप्त उपहार पर कर नहीं लगाया जाता है। इस उद्देश्य के लिए रिश्तेदार का मतलब:

(क) व्यक्ति के पति/पत्नी;

(ख) व्यक्ति के भार्इ या बहन;

(ग) व्यक्ति के जीवनसाथी के भार्इ या बहन;

(घ) व्यक्ति के माता-पिता में से किसी के भार्इ या बहन;

(ङ) व्यक्ति का कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(च) व्यक्ति के जीवनसाथी के कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(छ) बिंदु (ख) से (च) तक उल्लिखित व्यक्तियों के पति या पत्नी।

जैसा कि उपरोक्त में परिभाषित है मित्र एक रिश्तेदार नहीं है और इसलिए, मित्रों से प्राप्त उपहार पर कर वसूल किया जाएगा। (अगर उपहार पर कर लगाने के अन्य मानदंड पूरे होते हैं) ​

  
अनुमोदित

एआर्इआर दाखिल करने की नियत तिथि क्या है?

00000000000000074148वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​एआर्इआर दाखिल करने की नियत तारीख जिस वित्तीय वर्ष में लेन-देन पंजीकृत या दर्ज किया गया है, उसके तुरंत बाद आने वाला 31 अगस्त। उदाहरण के लिए, वित्तीय वर्ष 2013-14 में पंजीकृत या दर्ज किए गए लेनदेन के लिए दायर की जाने वाली एआर्इआर के संबंध में, नियत तारीख 31 अगस्त 2014 होगी।

  
अनुमोदित
एक व्यक्ति ने अपने मित्र से उपहार के रूप में एक फ्लैट प्राप्त किया। फ्लैट का स्टांप शुल्क मूल्य 84,000 रुपये है। इस मामले में क्या उपहार में दी गयी संपत्ति के कुल मूल्य पर कर वसूल किया जायेगा या केवल उस मूल्य पर जो 50,000 रुपये से अधिक है पर कर वसूल किया जायेगा?
56D09AB9-2460-4059-96AB-B4445BC65A4300000000000000083180व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

अगर पहले प्रश्नों में चर्चा की गयी शर्तें (अचल संपत्ति का उपहार की कर देयता के बारे में) संतुष्ट हैं तो यानी, प्रतिफल के भुगतान के बिना उपहार के रूप में प्राप्त अचल संपत्ति के पूरे मूल्य, पर कर वसूल किया जायेगा. एक बार, जब कर देयता को आकर्षित कर लिया जाता है यानी, उपहार के रूप में प्राप्त संपत्ति का मूल्य 50,000 रुपये से अधिक हो जाता है तो फिर संपत्ति का पूरा मूल्य कर के दायरे में आता है। इसलिए, इस मामले में संपत्ति के पूरे मूल्य, अर्थात 84,000 रुपये पर कर वसूल किया जायेगा। ​
  
अनुमोदित
अगर एक अचल संपत्ति इसके स्टांप शुल्क मूल्य से भी कम पर प्राप्त होती है तो क्या कोर्इ कर देयता पैदा होगी?
D8960C29-9899-4b6d-BFEA-8210D6A6439F00000000000000083170व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​प्रतिफल के भुगतान के बिना यानी, उपहार के रूप में प्राप्त अचल संपत्ति पर कर लगाने के अलावा, भी आयकर कानून में इसके स्टांप शुल्क मूल्य से भी कम समय के लिए प्राप्त किये गए अचल संपत्ति पर कर लगाने के लिए प्रावधान बनाया गया है। अगर निम्न स्थितियां, संतुष्ट हैं तो एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्राप्त इसके स्टांप शुल्क मूल्य से भी कम मूल्य पर प्राप्त अचल संपत्ति पर (*) कर वसूल किया जाएगा:

  • किसी अचल संपत्ति को एक व्यक्ति या एक एचयूएफ द्वारा अधिग्रहण कर लिया गया है।

  • ऐसे व्यक्ति या एचयूएफ के लिए अधिनियम की धारा 2(14)​ के अर्थ के भीतर अचल संपत्ति एक "पूंजी परिसंपत्ति" है।

  • ऐसी संपत्ति का अधिग्रहण एक प्रतिफल के भुगतान के बदले किया गया है लेकिन प्रतिफल स्टांप शुल्क मूल्य से कम है और फर्क 50,000 रुपये से अधिक है।

उपरोक्त मामले में संपत्ति की खरीद मूल्य के उपर स्टांप शुल्क मूल्य में फर्क क्रेता की आय के रूप में माना जाएगा।

(*) स्थितियों जिसमें अपने स्टांप शुल्क मूल्य से कम मूल्य में प्राप्त अचल संपत्ति पर कर नहीं लगाया जाता के लिए अगले पूछे जाने वाले प्रश्न देखें। ​

  
अनुमोदित

एआर्इआर दाखिल नहीं करने के परिणाम क्या हैं?

00000000000000074147वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 271चक के तहत, वार्षिक सूचना विवरणी (एआर्इआर) दाखिल किए जाने के लिए उत्तरदायी व्यक्ति पर चूक के प्रति दिन पर 100 /- रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है।

हालांकि, यदि कोर्इ व्यक्ति जैसाकि धारा 285खक की उप-धारा (5) के तहत नोटिस में निर्दिष्ट किया गया है, 60 दिन से अनधिक की अवधि के भीतर विवरणी प्रस्तुत करने में विफल रहता है, तो वह जुर्माने के माध्यम से, उस दिन तुरंत अगले दिन से प्रारंभ करते हुए जिस दिन ऐसी नोटिस में विवरणी प्रस्तुत करने के लिए निर्धारित समय समाप्त हो रहा है प्रत्येक दिन पर पांच सौ रुपए की राशि का भुगतान करेगा जिसके दौरान विफलता जारी रहती है।

  
अनुमोदित

वार्षिक सूचना विवरणी का प्रशासक कौन है?

00000000000000074146वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​सीबीडीटी ने वार्षिक सूचना विवरणी योजना के प्रशासन के प्रयोजन के लिए 'वार्षिक सूचना विवरणी प्रशासक' के रूप में आयकर महानिदेशक (सिस्टम) नियुक्त किया है।

  
अनुमोदित
क्या कुछ ऐसे भी मामले हैं जिनमें एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा इसके स्टांप शुल्क मूल्य से भी कम में प्राप्त अचल संपत्ति पर कर नहीं लगाया जाता?
27B22FD1-98DF-4061-90CA-A83EFFC3490000000000000000083160व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

अगर पूर्ववर्ती पूछे जाने वाले प्रश्न में दी गयी शर्तें संतुष्ट हैं, तो एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा इसके स्टांप शुल्क मूल्य से भी कम में प्राप्त अचल संपत्ति (अर्थात अधिग्रहीत) पर कर नहीं लगाया जाता। हालांकि, निम्नलिखित मामलों में इसके स्टांप शुल्क मूल्य से भी कम में प्राप्त अचल संपत्ति के संबंध में कोर्इ भी कर वसूल नहीं किया जायेगा:

  • रिश्तेदारों (*) से प्राप्त संपत्ति।

  • एचयूएफ द्वार अपने सदस्यों से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • व्यक्ति के शादी के अवसर पर प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • वसीयत के तहत / विरासत के माध्यम से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • दाता की मौत के कारण प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • आयकर अधिनियम की धारा 10 (20) के तहत परिभाषित एक स्थानीय प्राधिकारी से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • किसी फंड, फाउंडेशन, विश्वविद्यालय, अन्य शैक्षणिक संस्थान, अस्पताल या अन्य चिकित्सा संस्था, किसी ट्रस्ट या धारा 10 (23ग) में निर्दिष्ट किसी संस्था से प्राप्त किया गया धन।

  • एक ट्रस्ट या धारा 12कक​ के तहत पंजीकृत संस्था से प्राप्त किया गया धन।

(*) इस प्रयोजन के लिए रिश्तेदार का मतलब:

(क) व्यक्ति के पति/पत्नी;

(ख) व्यक्ति के भार्इ या बहन;

(ग) व्यक्ति के जीवनसाथी के भार्इ या बहन;

(घ) व्यक्ति के माता-पिता में से किसी के भार्इ या बहन;

(ङ) व्यक्ति का कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(च) व्यक्ति के जीवनसाथी के कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(छ) बिंदु (ख) से (च) तक उल्लिखित व्यक्तियों के पति या पत्नी। ​

  
अनुमोदित

क्या एक संगठन को जिसके लिए एआर्इआर दाखिल करना आवश्यक है, पूरे संगठन के लिए एक एकल एआर्इआर दाखिल करना चाहिए या वह अपनी शाखा/क्षेत्रीय कार्यालय से प्रत्येक के लिए अलग एआर्इआर दाखिल कर सकता है?

00000000000000074145वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​एक संगठन जिसके लिए एआर्इआर दाखिल करना आवश्यक है को पूरे संगठन के लिए एक एकल एआर्इआर दाखिल करना चाहिए।

  
अनुमोदित
क्या एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा उपहार के रूप में प्राप्त चल संपत्ति पर कर लगाया जाता है?
07524334-3BD1-4eeb-8703-ACD3D8B6DDBD00000000000000083150व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

अगर निम्न स्थितियां संतुष्ट हैं तो एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्राप्त चल संपत्ति के लिए निर्धारित मूल्य (*) पर कर वसूल ($) किया जायेगा :

  • निर्धारित चल संपत्ति किसी प्रतिफल के भुगतान के बिना प्राप्त होता है (अर्थात, उपहार के रूप में प्राप्त)।

  • करदाता द्वारा वर्ष के दौरान प्राप्त ऐसी संपत्ति का कुल उचित बाजार मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है। उपरोक्त मामले में, निर्धारित चल संपत्ति का उचित बाजार मूल्य संपत्ति प्राप्त करने वाले की आय के रूप में माना जाएगा।

(*) निर्धारित चल संपत्ति का मतलब शेयर / प्रतिभूतियां, आभूषण, पुरातात्विक संग्रह, चित्र, पेंटिंग, मूर्तियां या कला और बुलियन का कोर्इ भी काम जो करदाता की पूंजी परिसंपत्ति है।

उपरोक्त परिभाषा को देखते हुए, किसी भी उपहार के संबंध में किसी भी मद के एक चल संपत्ति उपरोक्त परिभाषा में शामिल की तुलना में अन्य, कोर्इ भी कर वसूल नहीं किया जायेगा। जैसे, उपहार के रूप में प्राप्त किये गए एक टीवी सेट के संबंध में कोर्इ भी कर वसूल नहीं किया जायेगा। क्योंकि एक टीवी सेट निर्धारित चल संपत्ति का परिभाषा में शामिल नहीं है।

($) उन स्थितियों के लिए जिसमें एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा किसी प्रतिफल के भुगतान के बिना अर्थात उपहार के रूप में प्राप्त निर्धारित चल संपत्ति पर कर नहीं लगाया जाता, अगले पूछे जाने वाले प्रश्न देखें।

  
अनुमोदित

कौन, एआर्इआर प्राप्त करने के लिए अधिकृत है?

00000000000000074144वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​सीबीडीटी (केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड) ने एआर्इआर प्राप्त करने के लिए नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड (एनएसडीएल) को अधिकृत किया है। एनएसडीएल, टिन सुविधा केन्द्र (टिन-एफसी) नामक अग्रांत कार्यालयों के अपने देश व्यापी नेटवर्क के माध्यम से और वेब आधारित सुविधा के माध्यम से अॉन लाइन, एआर्इआर प्राप्त करती है। टिनएफसी द्वारा प्राप्त और अॉन लाइन डेटा को एनएसडीएल द्वारा समामेलित किया जाता है और आयकर विभाग को प्रसारित किया जाता है।

  
अनुमोदित
क्या ऐसे भी मामले हैं जिसमें किसी प्रतिफल के भुगतान के बिना एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्राप्त निर्धारित चल संपत्ति के मूल्य पर कर वसूल नहीं किया जाता?
7320D71D-907E-47ca-AEE8-2A14CC41977B00000000000000083140व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

अगर पूछे जाने वाले प्रश्न पूर्ववर्ती में दी गर्इ शर्तें संतुष्ट हैं तो एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्रतिफल के भुगतान के बिना, यानी, उपहार के रूप में प्राप्त निर्धारित चल संपत्ति के मूल्य पर कर वसूल नहीं किया जाता। हालांकि, निम्नलिखित मामलों में प्रतिफल के बिना प्राप्त निर्धारित चल संपत्ति के संबंध में कर लगाने के लिए कुछ नहीं होगा:

  • रिश्तेदारों (*) से प्राप्त संपत्ति।

  • एचयूएफ द्वार अपने सदस्यों से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • व्यक्ति के शादी के अवसर पर प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • वसीयत के तहत / विरासत के माध्यम से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • दाता की मौत के कारण प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • आयकर अधिनियम की धारा 10 (20) के तहत परिभाषित एक स्थानीय प्राधिकारी से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • किसी फंड, फाउंडेशन, विश्वविद्यालय, अन्य शैक्षणिक संस्थान, अस्पताल या अन्य चिकित्सा संस्था, किसी ट्रस्ट या धारा 10 (23ग) में निर्दिष्ट किसी संस्था से प्राप्त किया गया धन।

  • एक ट्रस्ट या धारा 12कक​ के तहत पंजीकृत संस्था से प्राप्त किया गया धन।

(*) इस प्रयोजन के लिए रिश्तेदार का मतलब:

(क) व्यक्ति के पति/पत्नी;

(ख) व्यक्ति के भार्इ या बहन;

(ग) व्यक्ति के जीवनसाथी के भार्इ या बहन;

(घ) व्यक्ति के माता-पिता में से किसी के भार्इ या बहन;

(ङ) व्यक्ति का कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(च) व्यक्ति के जीवनसाथी के कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(छ) बिंदु (ख) से (च) तक उल्लिखित व्यक्तियों के पति या पत्नी।​

  
अनुमोदित

मैं, इलेक्ट्रॉनिक/कम्प्यूटरीकृत रूप में एआर्इआर किस प्रकार तैयार कर सकता हूं?

00000000000000074143वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​आप एनएसडीएल एआर्इआर निर्माण उपयोगिता का प्रयोग करके एआर्इआर तैयार कर सकते हैं जो एनएसडीएल-टिन की वेबसाइट https://www.tin-nsdl.com से मुफ्त डाउनलोड की जा सकती है। इसके अलावा, आप आंतरिक सुविधाओं का प्रयोग कर सकते हैं या किसी अन्य तृतीय पक्ष के सॉफ्टवेयर का प्रयोग कर सकते हैं। सॉफ्टवेयर प्रदाताओं की सूची https://www.tin-nsdl.com पर देखी जा सकती है।

  
अनुमोदित
एक व्यक्ति अपने दोस्तों से उपहार के रूप में आभूषण प्राप्त करता है। वर्ष के दौरान सभी दोस्तों से उपहार के रूप में प्राप्त आभूषणों का कुल बाजार मूल्य 84,000 रुपये की राशि है। इस मामले में उपहार का क्या कर उपचार किया जाएगा?
3B0F2AE9-2E71-437c-8ECA-75EF389A37B000000000000000083130व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
अगर एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा वर्ष के दौरान बिना किसी प्रतिफल के भुगतान के प्राप्त निर्धारित चल संपत्ति का कुल उचित बाजार मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है, तो वर्ष के दौरान बिना किसी प्रतिफल के भुगतान के प्राप्त निर्धारित चल संपत्ति का कुल उचित बाजार मूल्य पर कर वसूल किया जायेगा। इस मामले में वर्ष के दौरान प्राप्त आभूषण का कुल मूल्य 50,000 रुपये से अधिक है और इसलिए, 84,000 रुपये पर कर वसूल किया जायेगा। ​
  
अनुमोदित

एआर्इआर तैयार करने में प्रयोग किये जाने वाले फॉर्म क्या हैं?

00000000000000074142वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​एआर्इआर कंप्यूटर पठनीय मीडिया (अर्थात सीडी/फ्लॉपी) पर डिजिटल प्रारूप में फार्म 61क में प्रस्तुत किया जाना चाहिए जिसे फार्म 61क (भाग क) में कागज प्रारूप में एक विधिवत हस्ताक्षरित सत्यापन व नियंत्रण चार्ट द्वारा और इलेक्ट्रॉनिक रूप में फार्म 61क (भाग- ख) द्वारा समर्थित होना चाहिए।

  
अनुमोदित

क्या ऐसा भी कोर्इ मामला है जहाँ एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा अपने उचित बाजार मूल्य की तुलना में कम के लिए प्राप्त निर्धारित चल संपत्ति पर कर नहीं वसूल किया जाता? 
16492902-01D7-4f70-AFE5-EF9DE889AB3A00000000000000083120व्यक्ति या हिन्दू अविभक्त परिवार द्वारा पाये गए उपहार का कर उपचार पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

अगर पूछे जाने वाले प्रश्न पूर्ववर्ती में दी गर्इ शर्तें संतुष्ट हैं तो एक व्यक्ति या एचयूएफ द्वारा प्रतिफल के भुगतान के बिना, यानी, उपहार के रूप में प्राप्त निर्धारित चल संपत्ति के मूल्य पर कर वसूल नहीं किया जाता। हालांकि, निम्नलिखित मामलों में प्रतिफल के बिना प्राप्त निर्धारित चल संपत्ति के संबंध में कर लगाने के लिए कुछ नहीं होगा:

  • रिश्तेदारों (*) से प्राप्त संपत्ति।

  • एचयूएफ द्वार अपने सदस्यों से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • व्यक्ति के शादी के अवसर पर प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • वसीयत के तहत/विरासत के माध्यम से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • दाता की मौत के कारण प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • आयकर अधिनियम की धारा 10 (20) के तहत परिभाषित एक स्थानीय प्राधिकारी से प्राप्त की गयी संपत्ति।

  • किसी फंड, फाउंडेशन, विश्वविद्यालय, अन्य शैक्षणिक संस्थान, अस्पताल या अन्य चिकित्सा संस्था, किसी ट्रस्ट या धारा 10 (23ग) में निर्दिष्ट किसी संस्था से प्राप्त किया गया धन।

  • एक ट्रस्ट या धारा 12कक​ के तहत पंजीकृत संस्था से प्राप्त किया गया धन।

(*) इस प्रयोजन के लिए रिश्तेदार का मतलब:

(क) व्यक्ति के पति/पत्नी;

(ख) व्यक्ति के भार्इ या बहन;

(ग) व्यक्ति के जीवनसाथी के भार्इ या बहन;

(घ) व्यक्ति के माता-पिता में से किसी के भार्इ या बहन;

(ङ) व्यक्ति का कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(च) व्यक्ति के जीवनसाथी के कोर्इ नजदीकी लग्न या वंशज;

(छ) बिंदु (ख) से (च) तक उल्लिखित व्यक्तियों के पति या पत्नी। ​

  
अनुमोदित

एआर्इआर किस ढंग से प्रस्तुत किया जाना चाहिए?

00000000000000074141वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

जिनके लिए एआर्इआर प्रस्तुत करना आवश्यक है उन संस्थाओं की सभी श्रेणियों द्वारा एआर्इआर इलेक्ट्रॉनिक रूप में फार्म संख्या 61क में प्रस्तुत किया जाना चाहिए।

भौतिक रूप में एआर्इआर प्रस्तुत किए जाने की अनुमति नहीं है।

  
अनुमोदित

वेब आधारित सुविधा के माध्यम से अॉनलाइन एआर्इआर अपलोड करने की प्रक्रिया क्या है?

00000000000000074140वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​एआर्इआर सीधे एनएसडीएल टिन वेबसाइट https://www.tin-nsdl.com के माध्यम से वेबसाइट पर दी गर्इ निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार अपलोड किया जा सकता है। अॉनलाइन प्रस्तुत की जाने वाली ये विवरणियां, सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 के तहत एनएसडीएल द्वारा निर्दिष्ट एक प्रमाणन प्राधिकरण द्वारा जारी एक डिजिटल प्रमाण पत्र (श्रेणी द्वितीय या तृतीय) का उपयोग करते हुए डिजिटल रूप में हस्ताक्षरित की जाएगीं। अॉनलाइन एआर्इआर प्रस्तुत करने के मामले में एनएसडीएल को भौतिक रूप में फार्म 61क (भाग क) प्रस्तुत करने की आवश्यकता नहीं है।

  
अनुमोदित

एआर्इआर में उद्धृत की जाने वाली फोलियो संख्या क्या है?

00000000000000074139वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

उद्धृत की जाने वाली फोलियो संख्या संगठन का टैन (कर कटौती और संग्रह खाता संख्या) है।

उस मामले में जहां दाखिलकर्ता एक गैर सरकारी संस्था है, फोलियो संख्या एआर्इआर भरने के लिए उत्तरदायी संस्था के मुख्य कार्यालय का टैन होगा।

  
अनुमोदित

क्या एआर्इआर में टैन उद्धृत करना अनिवार्य है?

00000000000000074138वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​सभी दाखिलकर्ताओं को टैन प्राप्त करना आवश्यक है और उसे फार्म सं. 61क के भाग क व भाग ख दोनों के 'फोलियो संख्या' कॉलम में उद्धृत करना होगा।

  
अनुमोदित

टैन के लिए आवेदन कैसे करें?

00000000000000074137वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​आयकर विभाग की वेबसाइट https://www.incometdxindid.gov.in या एनएसडीएल टिन की वेबसाइट https://www.tin-nsdl.com पर उपलब्ध फार्म 49ख में आवेदन एनएसडीएल द्वारा प्रबंधित किसी भी टिन सुविधा केन्द्र (टिन-एफसी) से दायर किया जा सकता है। टिन-एफसी की सूची एनएसडीएल टिन की वेबसाइट https://www.tin-nsdl.com पर उपलब्ध है।

  
अनुमोदित

क्या टैन आवेदन अॉनलाइन जमा किया जा सकता है?

00000000000000074136वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​टैन आवेदन एनएसडीएल टिन की वेबसाइट https://www.tin-nsdl.com पर अॉनलाइन जमा किया जा सकता है।

  
अनुमोदित

​प्रकल्पित कराधान योजना के मायने क्या हैं?

00000000000000083300कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
​​आयकर अधिनियम के अनुसार, कारोबार में व्यस्त व्यक्ति को नियमित लेख - जोखा की किताबें बनाये रखना आवश्यक है, और हिसाब - किताब का लेख-परिक्षण कराना भी आवश्यक है। छोटे करदाताओं को इस उकतानेवाले काम से राहत दिलाने के लिए, आयकर कानून ने धाराओं 44कघ और 44कड़ के तहत, प्रकल्पित कराधान योजना तैयार की है। 
प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार करनेवाला व्यक्ति अपनी आय की घोषणा निर्धारित दर पर कर सकता है, जिसके बदले उसे हिसाब किताब की किताबें बनाये रखने की आवश्यकता नहीं होगी, और न ही उसे हिसाब किताब के रजिस्टर को परीक्षण करने की आवश्यकता है।
लघु करदाताओं के लिए, आयकर कानून ने निम्नलिखित रूप से दो प्रकल्पित कराधीन योजनाएं तैयार की हैं:
1. धारा 44कघ की प्रकल्पित कराधान योजना;
2. धारा 44कड़​ की प्रकल्पित कराधान योजना;

  
अनुमोदित

क्या हम टैन के स्थान पर पैन उद्धृत कर सकते हैं?

00000000000000074135वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​नहीं, उस फील्ड में कभी पैन उद्धृत नहीं किया जा सकता जहां टैन उद्धृत किया जाना आवश्यक है। पैन उस फील्ड में उद्धृत किया जा सकता है जहां उसे उद्धृत किया जाना आवश्यक है।

  
अनुमोदित

क्या लेनदेन करने वाले पक्षों का पैन एआर्इआर में उद्धृत करना होता है?

00000000000000074134वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

हाँ, दाखिलकर्ता को जिनके संबंध में निर्दिष्ट लेनदेन उसके द्वारा पंजीकृत या दर्ज किया गया है, सभी व्यक्तियों का स्थायी खाता संख्या (पैन) उद्धृत करना चाहिए।

हालांकि, आयकर नियम 1962 के नियम 114ख और 114ग में निर्दिष्ट मामलों में पैन प्राप्त करने से कुछ राहत दी गर्इ है, इसलिए, उन मामलों के संबंध में, जिन पर नियम 114ख का दूसरा परंतुक या नियम 114ग का उप-नियम (1) लागू होता है, पैन उद्धृत नहीं किया जाना है। हालांकि, जिन मामलों पर राहत लागू होती है, लेनदेन करने वाले पक्ष द्वारा फार्म सं 60/61 प्रस्तुत करना होगा। इस प्रकार, इस तरह के मामलों में दाखिलकर्ता एआर्इआर में यह उल्लेख करेगा कि क्या नियम 114ख दूसरे परंतुक में निर्दिष्ट फार्म सं 60 या नियम 114ग के उपनियम(1) के खंड (क) में निर्दिष्ट या फार्म सं. 61, जैसी भी स्थिति हो, प्राप्त कर लिया गया है। सरकारी विभागों/दूतावास कार्यालयों के मामलों में, वह एआर्इआर में निर्धारित तरीके से ऐसा इंगित करेगा।

  
अनुमोदित

44कघ की प्रकल्पित कराधान योजना किसके लिए रूपांकित की गर्इ है ?

00000000000000083290कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​​ धारा 44कघ की प्रकल्पित कराधान योजना किसी भी व्यवसाय से जुड़े ( 44कड़​ में उल्लिखित माल वाहनों को भाड़े पर देना वगैरह के व्यवसाय को छोड़कर) लघु करदाताओं की राहत के लिए रूपांकित की गर्इ है।)​

  
अनुमोदित

एआर्इआर में लेनदेन करने वाले पक्षों का पैन उद्धृत नहीं करने के परिणाम क्या हो सकते है?

00000000000000074133वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​​आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 272ख के अनुसार, आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 139​ क के उपबंधों का अनुपालन करने में विफलता के लिए 10,000 रु. (रु. दस हजार मात्र) का जुर्माना लगाया जा सकता है।

  
अनुमोदित

​धारा 44 एडी की प्रकल्पित कराधान योजना का लाभ उठाने के लिए कौन योग्य है ?

00000000000000083280कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
धारा 44कघ की प्रकल्पित कराधान योजना निम्नलिखित व्यक्तियों द्वारा अंगीकार की जा सकती है :
1. निवासी व्यक्ति;
2. निवासी अविभक्त परिवार;
3. निवासी साझेदारी कंपनी (सीमित उत्तरदायित्व साझेदारी कंपनी को छोड़कर);
दूसरे शब्दों में, यह योजना अनिवासी द्वारा या किसी और व्यक्ति, हिन्दू अविभक्त परिवार या साझेदारी कंपनी (सीमित उत्तरदायित्व साझेदारी कंपनी को छोड़कर) अंगीकार नहीं की जा सकती।
ये प्रावधान उस व्यक्ति द्वारा अंगीकार नहीं किये जा सकते, जिसने संब​धित वर्ष में धारा 10क/ 10कक/ 10ख/ 10खक या धारा 80जज से 80 80ददख​ तक के तहत छूट या राहत का दावा किया है।

  
अनुमोदित

एआर्इआर में संयुक्त पक्षों का लेनदेन किस प्रकार प्रदान किया जाएगा?

00000000000000074132वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

संयुक्त पक्षों वाले लेनदेनों के मामले में, दाखिलकर्ता निम्नलिखित करेगा-

• संयुक्त लेन - देन में शामिल प्रत्येक पक्ष के लिए अलग लाइन मद प्रदान करेगा और यदि प्रत्येक संयुक्त पक्ष का हिस्सा निर्दिष्ट व ज्ञात है उस पक्ष से संबधित लेनदेन की राशि को अलग से दर्शायेगा।

• सभी संयुक्त पक्षों का विवरण (राशि को छोड़कर) अलग लाइन मद के रूप में प्रदान करेगा और संयुक्त लेन-देन पक्षों का हिस्सा अपरिभाषित होने पर केवल पहले नाम वाले पक्ष के सापेक्ष लेन-देन राशि का उल्लेख करेगा।

  
अनुमोदित

​कौन से व्यवसाय प्रकल्पित कराधान योजना के योग्य नहीं हैं ?

00000000000000083270कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
​​ 44कघ के तहत प्रकल्पित कराधान योजना, निम्नलिखित व्यवसाय को छोड़कर किसी भी व्यवसाय में व्यस्त लघु करदाताओं की राहत या छूट के लिए रूपांकित की गर्इ है :
धारा 44कड़ के तहत माल वाहनों को किराये पर देने का व्यवसाय;
• वह व्यक्ति जो एजेंसी के व्यवसाय से जुड़ा है;
• वह व्यक्ति जो कमीशन या दलाली के रूप में आय अर्जित करता है;
ऊपर चर्चित व्यवसाय के अलावा, वह व्यक्ति जो 44कक(1)​ में उल्लिखित व्यवसाय से जुड़ा है, वह प्रकल्पित कराधान योजना के तहत योग्य नहीं है।

  
अनुमोदित

​क्या धारा 44कघ के तहत एक बीमा एजेंट प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार कर सकता है ?

00000000000000083260कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​​एक व्यक्ति जो कमीशन या दलाली के रूप में आय अर्जित करता है, वह धारा 44कघ के प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार नहीं कर सकता। बीमा एजंट कमीशन के द्वारा आय अर्जित करते हैं, इसलिए वे 44कघ​ की प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार नहीं कर सकते।​

  
अनुमोदित

​क्या धारा 44 एए(1) में निर्धारित व्यवसाय से जुड़ा व्यक्ति, धारा 44 एडी के तहत, प्रकल्पित कराधान योजना अंगीकार कर सकता है ?

00000000000000083240कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

धारा 44कक(1) में निर्धारित किसी भी व्यवसाय से जुड़ा व्यक्ति, धारा 44कघ​ के तहत प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार नहीं कर सकता।​

  
अनुमोदित

​आयकर कानून के सामान्य प्रावधानों के तहत, कर - योग्य व्यावसायिक आय के परिकलन कैसे किया जाता है, यानी कि अगर †† ए डी की प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार नहीं करता ?

00000000000000083230कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

आयकर कानून के सामान्य प्रावधानों के तहत, कर - योग्य व्यावसायिक आय के परिकलन कैसे किया जाता है, यानी कि अगर ए डी की प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार नहीं करता ?

सामान्य रूप से, आयकर कानून के अनुसार, हर व्यक्ति की कर-योग्य व्यावसायिक आय, निम्नलिखित रूप से परिकलित की जाती है:

विवरण राशि
कुल बिक्री या व्यवसाय की सकल प्राप्तियां --------
कम : आय अर्जित करने के लिए किया गया व्यय --------
कुल व्यावसायिक कर योग्य आय --------

ऊपर बताये गए तरीके से, कर - योग्य व्यवसायिक आय को परिकलित करने के उद्येश से, कर डाटा को लेख - जोखा की किताबें बनाये रखना आवश्यक है जिनमे दी गर्इ जानकारी के आधार पर, आय का परिकलन किया जायेगा।

  
अनुमोदित

​क्या धारा 44कघ के तहत वह व्यक्ति प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार कर सकता है, जिसकी कुल बिक्री या सकल प्राप्तियां 1,00,00,000 रुपये है ?

00000000000000083245कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​​ 44कघ के तहत, प्रकल्पित कराधान योजना योग्य व्यक्तियों द्वारा अंगीकार की जा सकती है, अगर उसके व्यवसाय से उसकी कुल बिक्री या सकल प्राप्तियां 44कख में निर्धारित लेख-जोखा की सीमा को पार नहीं करता (यानी कि 10,00,00,000 रुपये।) दूसरे शब्दों में, अगर व्यवसाय की कुल बिक्री या सकल प्राप्तियां 10,00,00,000 रुपये की राशि लांघ जाती है, तो वह व्यक्ति 44कघ​ के तहत, प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार नहीं कर सकता।​

  
अनुमोदित

​कर-योग्य व्यवसायिक आय का परिकलन कैसे किया जाता है, अगर एक व्यक्ति धारा 44कघ के तहत प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार करना चाहता है?

00000000000000083220कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
​​अगर एक व्यक्ति 44कघ के प्रावधान अंगीकार करना चाहता है, प्रकल्पित आधार पर आय परिकलित की जाती है, यानि कि/वर्ष के उपयुक्त व्यवसाय की कुल बिक्री या सकल प्राप्तियों का 8%
दूसरे शब्दों में, अगर एक व्यक्ति 44कघ​ के प्रावधान अंगीकार करता है, तो आय का परिकलन एफ ए क्यू (यानी कि कुल बिक्री से व्यय घटाकर) में चर्चित सामान्य तरीके से नहीं किया जायेगा, पर कुल बिक्री के 8% की दर से किया जायेगा।
उच्च दर पर आय, यानी कि 8% से अधिक आय घोषित की जा सकती है अगर वास्तविक आय 8% से अधिक है।
  
अनुमोदित

एआर्इआर में संयुक्त पक्षों के लेनदेन का उल्लेख किस प्रकार करें?

00000000000000074131वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

प्रत्येक लेनदेन पक्ष का रिकॉर्ड एक अद्वितीय लेनदेन विवरण रिकार्ड क्रम संख्या (क्रम संख्या) द्वारा पहचाना जाएगा। यदि संयुक्त लेनदेन में दो या दो से अधिक लेनदेन पक्ष शामिल हैं तो लेनदेन विवरण रिकार्ड क्रम संख्या (क्रम संख्या) उनके लिए एक ही होगी।

इसमें एक अन्य फील्ड 'संयुक्त लेनदेन में पक्षों की संख्या' भी है जो लेन-देन में शामिल संयुक्त लेनदेन पक्षों की कुल संख्या की पहचान करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यदि एक लेनदेन में शामिल संयुक्त लेनदेन पक्षों की संख्या 5 है (अर्थात, 1+4 संयुक्त धारक हैं) तो, दाखिलकर्ता को 'संयुक्त लेनदेन में पक्षों की संख्या' फील्ड में पहले धारक के सामने '5' निर्दिष्ट करना चाहिए। शेष संयुक्त धारकों के लिए इस फील्ड में "0" दर्शाया जाना चाहिए। एक एकल लेनदेन पक्ष के साथ लेनदेन के लिए, इस फील्ड का मूल मान 1 होगा। संयुक्त लेनदेन में शामिल पहले लेनदेन पक्ष का समस्त लेन-देन विवरण प्रदान करना चाहिए। दाखिलकर्ता को संयुक्त लेनदेन में शामिल पहले लेनदेन पक्ष का समस्त लेन-देन विवरण प्रदान करना चाहिए। शेष संयुक्त लेनदेन पक्षों के लिए, दाखिलकर्ता को लेनदेन पक्ष की अद्वितीय जानकारी जैसेकि नाम, पैन, और पता फील्ड प्रदान करना चाहिए ( लेनदेन विवरण की शेष सभी फील्ड में कोर्इ मान निर्दिष्ट नहीं किया जाना चाहिए)।

फील्ड की व्याख्या करते हुए एक उदाहरण नीचे दिया गया है:

उदाहरण: एक फाइल में 3 लेनदेन शामिल हैं। पहले लेन-देन में, 3 (1+2) संयुक्त पक्ष हैं, दूसरे लेन-देन में कोर्इ संयुक्त पक्ष नहीं है और तीसरे लेन-देन में 2 (1+1) संयुक्त पक्ष हैं।

निविष्टि फाइल के प्रासंगिक भाग नीचे दिए गए अुनसार दिखेगें। यह उल्लेखनीय है कि एक संयुक्त पक्ष के मामले में, केवल नाम, पता और पैन दिया जाना आवश्यक है। अन्य विवरण जैसे कि राशि, तिथि, लेन-देन कोड, लेन-देन की विधि, नाम और दाखिलकर्ता के कार्यालयध्शाखा का पता उपलब्ध कराया जाना जरूरी नहीं है।

लेनदेन करने वाले पक्ष का नाम

लेनदेन विवरण रिकार्ड संख्या

संयुक्त लेनदेन में पक्षों की संख्या

लेन-देन की तिथि

समीर शेह

1

3

01022004

शर्मिला शाह

1

0


सरला शाह

1

0


नितिन सिन्हा

2

1

02022004

तनुजा सारंगी

3

2

02012004

उमेश सारंगी

3

0


यदि प्रत्येक संयुक्त पक्ष का हिस्सा ज्ञात है, तो संयुक्त लेनदेन में शामिल प्रत्येक पक्ष के लिए एक अलग लाइन मद प्रदान करें और उस पक्ष से संबंधित अलग लेन-देन राशि का उल्लेख करें, अर्थात उन्हें अलग एकल पक्ष लेनदेन के रूप में माना जाए। इस मामले में, लेनदेन विवरण रिकार्ड संख्या प्रत्येक पक्ष के लिए अलग होगी और इसके संगत संयुक्त लेनदेन पक्ष संख्या 1 होगी।

  
अनुमोदित

​धारा 44कघ की प्रकल्पित कराधान योजना के अनुसार, करदाता की आय कुल बिक्री या सकल प्राप्तियों की 8% की दर पर परिकलित जायेगी। और 8% की आय में से क्या करदाता और अधिक छूट का दावा कर सकता है ?

00000000000000083210कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
​​आयकर कानून के सामान्य प्रावधानों के अनुसार, कर - योग्य व्यवासिक आय, आयकर कानून अनुसार कटौती योग्य व्यय का निगमन करके, और उन कटौतियों को नामंज़ूर करने के बाद जो आयकर कानून के अनुसार कटौती योग्य नहीं हैं, उसके बाद आय परिकलित की जाएगी।
अगर एक व्यक्ति, धारा 44कघ के तहत प्रकल्पित कराधान योजना को चुनता है, तो आयकर कानून के तहत प्रदान किये गए छूट/नामंजूरी के प्रावधान लागू नहीं होंगे, और 8% की प्रकल्पित दर पर परिकलित आय, प्रकल्पित कराधान योजना के तहत, व्यवसाय संबधी सुनिश्चित कर - योग्य आय मानी जाएगी। दूसरे शब्दों में, 8% की दर पर परिकलित आय, आवृत किये हुए कारोबार की सुनिश्चित अंतिम आय होगी, और कोर्इ और व्यय लविकार या अस्वीकार नहीं किया जायेगा।
फिर भी, अगर करदाता एक साझेदार कंपनी है जो प्रकल्पित कराधान योजना को चुनती है, कुल बिक्री की 8% की दर से परिकलित आय में से, मेहनताना और साझेदारों को चुकता किये गए ब्याज के रूप में आगे की छूट का दावा किया जा सकता है (आयकर कानून के अनुसार परिकलित।)
धारा 44कघ​ के अनुसार आय की संगणना करते समय, अवमूल्यन के रूप में अलग से छूट उपलब्ध नहीं होगी। फिर भी, ऐसे व्यवसाय में प्रयोग की जानेवाली किसी भी संपत्ति का मूल्य, जैसे कि अवमूल्यन का धारा 32, के अनुसार दावा किया गया है, और वास्तव में उसकी मंज़ूरी दी गर्इ है।

  
अनुमोदित

​अगर एक व्यक्ति धारा 44कघ के तहत प्रकल्पित कराधान योजना को चुनता है, तो धारा 44कक के अनुसार लेख - जोखा की किताबें बनाये रखना आवश्यक है?

00000000000000083200कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
​​ धारा 44कक, व्यवसाय या पेशे से जुड़े व्यक्ति को लेख - जोखा की किताबें बनाये रखने के कार्य में व्यवहार करता है। इसलिए, व्यवसाय/पेशे से जुड़े एक व्यक्ति को धारा 44कक के अनुसार लेख - जोखा की किताबें बनाये रखना आवश्यक है।
अगर एक व्यक्ति किसी व्यवसाय से जुड़ा है, और धारा 44कघ की प्रकल्पित कराधान योजना चुनता है, तो धारा 44कक के, लेखा - जोखा की किताबें बनाये रखने के प्रावधान उसपर लागू नहीं होंगे। दूसरे शब्दों में, अगर एक व्यक्ति धारा 44कघ के प्रावधान चुनता है, और अपनी आय कुल बिक्री की 8% की दर से घोषित करता है, तो उसे धारा 44कड़​ की प्रकल्पित कराधान योजना के तहत आवृत किये गए कारोबार के संबध, धारा 44कघ में दिए गए प्रावधानों के अनुसार उसे लेख - जोखा की किताबें बनाये रखने की आवश्यकता नहीं है। लेख - जोखा की किताबें बनाये रखने की राहत के अलावा, यह योजना कर दाता को लेख - जोखा की किताबें के परीक्षण से भी छुटकारा मिल जायेगा।

  
अनुमोदित

​अगर एक व्यक्ति धारा 44कघ की प्रकल्पित कराधान योजना चुनता है, तो क्या उसे धारा 44कघ के तहत आवृत किये गए व्यवसाय के संबध में अग्रिम कर चुकता करने की आवश्यकता होगी ?

00000000000000083190कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
धारा 44कघ की प्रकल्पित कराधान योजना चुनने वाला व्यक्ति को, धारा 44कघ​ के तहत आवृत किये गए व्यवसाय के संबध में अग्रिम कर भुगतान करने की आवश्यकता नहीं होगी।

  
अनुमोदित

बचत खाते में नकदी जमा करने (लेन-देन कोड 001) और क्रेडिट कार्ड द्वारा भुगतान (लेन-देन कोड 002) और आरबीआर्इ बॉण्ड में निवेश (लेन-देन कोड 008) के मामले में, क्या दाखिलकर्ता द्वारा लेनदेन पक्ष की प्रत्येक प्रविष्टि दिया जाना आवश्यक है?

00000000000000074130वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​नहीं, लेन-देन कोड 001, 002 और 008 के मामले में, प्रासंगिक वर्ष के दौरान केवल कुल नकद जमा या कुल भुगतान जैसा भी मामला हो, का उल्लेख किया जाएगा। इन मामलों में तिथि कॉलम में प्रासंगिक वित्तीय वर्ष जिसके लिए लेनदेन रिपोर्ट की जा रही है, की अंतिम तिथि होगी, उदाहरण के लिए, वित्तीय वर्ष 2013-14 के लेनदेन के लिए 31.03.2014 ।

  
अनुमोदित

एआर्इआर की तैयार करने के लिए डेटा संरचना (फाइल प्रारूप) क्या है?

00000000000000074129वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​एआर्इआर, वार्षिक सूचना विवरणी-प्रशासक द्वारा निर्दिष्ट डेटा संरचना (फाइल प्रारूप) के अनुसार कम्प्यूटरीकृत प्रारूप में प्रस्तुत किया जाना है।

  
अनुमोदित

फार्म 61क (भाग क) को भौतिक रूप में प्रस्तुत करते समय कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए?

00000000000000074128वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

फार्म 61क (भाग क) प्रस्तुत करते समय, यह सुनिश्चित करना चाहिए कि:

• फार्म 61क (भाग क) के सभी क्षेत्र विधिवत भरे हैं।

• दाखिलकर्ता का नाम व पैन तथा एआर्इआर में सूचित लेनदेनों की कुल संख्या (भाग ख) और फार्म 61क (भाग क) में उल्लिखित 'एआर्इआर में सूचित लेनदेनों का कुल मूल्य (भाग ख)' इलेक्ट्रॉनिक रूप में एआर्इआर में संबंधित योग के साथ सुमेलित होना चाहिए।

• फार्म 61क (भाग क) पर कोर्इ ओवरराइटिंग/काटपीट नहीं होनी चाहिए। यदि कहीं भी ऐसा है, तो उसकी अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता द्वारा हस्ताक्षर के द्वारा पुष्टि की जानी चाहिए।

  
अनुमोदित

अपना एआर्इआरर्इ तैयार करने के बाद, क्या यह जांच/सत्यापित करने का कोर्इ तरीका है कि यह निर्धारित डेटा संरचना (फाइल प्रारूप) के अनुरूप है या नहीं?

00000000000000074127वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​हाँ, अपना एआर्इआरर्इ तैयार करने के बाद, आप एआर्इआर-फाइल सत्यापन उपयोगिता (एआर्इआर- एफवीयू) का उपयोग करके उसका सत्यापन/जांच कर सकते हैं। यह उपयोगिता एनएसडीएल-टिन की वेबसाइट https://www.tin-nsdl.com से मुफ्त डाउनलोड की जा सकती है और टिन सुविधा केन्द्रों (टिन-एफसी) पर भी उपलब्ध है।

  
अनुमोदित

फाइल सत्यापन उपयोगिता (एफयूवी) क्या है?

00000000000000074126वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​एफयूवी, एनएसडीएल द्वारा विकसित प्रोग्राम है जो विवरणी फाइल के प्रारूप स्तर शुद्धता को सत्यापित करने के लिए प्रयोग किया जाता है। जब आप एआर्इआर को एफयूवी के माध्यम से गुजारते हैं, तो यह इनपुट फाइल में प्रारूप संबंधित कोर्इ भी त्रुटि होने पर, यह एक 'एरर' फाइल बनाता है। एरर फाइल त्रुटि कोड और त्रुटि विवरण प्रदर्शित करेगी। आप इन त्रुटियों को सुधार कर फाइल को तब तक पुन: एफयूवी के माध्यम से गुजार सकते हैं जब तक कि आपको एक त्रुटि मुक्त एआर्इआर फाइल न मिल जाए। यदि फाइल में कोर्इ त्रुटि नहीं है, तो एक संदेश 'फाइल सत्यापन सफल' प्रदर्शित किया जाएगा। एफयूवी के उपयोग पर विस्तृत मदद के लिए, 'AIR setup readme-text' और एआर्इआर एफयूवी प्रारंभ स्क्रीन में 'रीडमी' आइकन पर क्लिक करने पर उपलब्ध निर्देशों को देखें।

  
अनुमोदित

एआर्इआर एफयूवी, का प्रयोग करते हुए विवरणी सत्यापित करने के बाद, मुझे कौन सी फाइल प्रस्तुत करनी चाहिए?

00000000000000074125वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​एआर्इआर-एफयूवी 'इनपुट फाइल' के समान नाम से ही एक अपलोड फाइल उत्पन्न करेगा परंतु उसका एक्सटेंशन '.fvu'. होगा (उदाहरण के लिए, 'इनपुट फाइल' नाम FORM61A.txt होने पर उत्पन्न अपलोड फाइल FORM61A.fvu होगी)। यह अपलोड फाइल या तो एनएसडीएल के अग्रांत केंद्रों जिन्हें टिन सुविधा केन्द्र (टिन-एफसी) कहा जाता है या एनएसडीएल-टिन की वेबसाइट https://www.tin-nsdl.com पर उपलब्ध वेब आधारित अॉनलाइन सुविधा के माध्यम, प्रस्तुत किया जाना आवश्यक है।

  
अनुमोदित

एफयूवी के निष्पादन के लिए प्लेटफार्म क्या हैं?

00000000000000074124वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

एआर्इआर-एफयूवी को इंस्टाल करने और रन करने के लिए, कंप्यूटर पर जावा इंस्टाल किया जाना आवश्यक है। विस्तृत विवरण एनएसडीएल की वेबसाइट की एआर्इआर फाइल सत्यापन उपयोगिता अनुभाग में दिया गया है।

अधिक जानकारी के लिए, http://www.tin-nsdl.com/air/airfilvaliutility.php पर क्लिक करें।

  
अनुमोदित

मैं अपनी एआर्इआर कहाँ प्रस्तुत कर सकता हूं?

00000000000000074123वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

आप अपनी एआर्इआर एनएसडीएल द्वारा प्रबंधित किसी भी टिन-एफसी पर प्रस्तुत कर सकते हैं। टिन-एफसी देश भर में विभिन्न स्थानों पर स्थापित किए गये हैं। टिन-एफसी का विवरण एनएसडीएल-टिन की वेबसाइट पर दिया गया है।

वैकल्पिक रूप से, वेबसाइट पर निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार आप एनएसडीएल टिन वेबसाइट के माध्यम से एआर्इआर सीधे अपलोड कर सकते हैं। अॉनलाइन प्रस्तुत की जाने वाली ये विवरणियां, सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 के तहत एनएसडीएल द्वारा निर्दिष्ट एक प्रमाणन प्राधिकरण द्वारा जारी एक डिजिटल प्रमाण पत्र (श्रेणी द्वितीय या तृतीय) का उपयोग करते हुए डिजिटल रूप में हस्ताक्षरित की जाएगीं। अॉनलाइन एआर्इआर प्रस्तुत करने के मामले में एनएसडीएल को भौतिक रूप में फार्म 61क (भाग क) प्रस्तुत करने की आवश्यकता नहीं है।

  
अनुमोदित

टिन-एफसी को एआर्इआर प्रस्तुत करने का तरीका क्या है?

00000000000000074122वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​एआर्इआर, एनएसडीएल के किसी भी टिन सुविधा केन्द्र पर कागज प्रारूप में विधिवत रूप से भरे हुए हस्ताक्षरित किए गए फार्म सं 61क (भाग क), के साथ एक सीडी/फ्लॉपी में प्रस्तुत किया जाना चाहिए।

  
अनुमोदित

क्या परिणाम होगा यदि फार्म 61क भाग क में उल्लिखित कोर्इ नियंत्रण योग की एआर्इआर में दिए गए विवरण के साथ मेल नहीं खाता है?

00000000000000074121वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​ऐसे मामले में एआर्इआर टिन-एफसी द्वारा स्वीकार नहीं किया जाएगा। आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि एआर्इआर में दिया गया नियंत्रण योग और फार्म 61क (भाग क) में दिया गया योग सुमेलित होना चाहिए। किसी भी कठिनार्इ/जानकारी के संबंध में, आप टिन कॉल सेंटर से 020-27218080 पर या tininfo@nsdl.co.in पर र्इमेल द्वारा संपर्क कर सकते हैं।

  
अनुमोदित

टिन-एफसी को एआर्इआर प्रस्तुत करने का शुल्क क्या है?

00000000000000074120वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

आप नीचे दिए गए के अनुसार प्रभार का भुगतान करना है:

रिकॉर्ड की संख्या

अपलोड शुल्क * (रु.)

100 तक

31.15

101 से 1000 तक

178.00

1000 से अधिक

578.50

* जैसा लागू हो करों को छोड़कर

अद्यतन दरों के लिए कृपया https://www.tin-nsdl.com पर जाएं।

  
अनुमोदित

क्या एक ही कंप्यूटर मीडिया (सीडी/फ्लॉपी) में एक से अधिक एआर्इआर प्रस्तुत किये जा सकते हैं?

00000000000000074119वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​नहीं, प्रत्येक वापसी के लिए प्रत्येक एआर्इआर एक अलग फार्म 61क (भाग क) के साथ एक अलग सीडी/फ्लॉपी में होना चाहिए।

  
अनुमोदित

क्या एक एआर्इआर दो या अधिक फ्लॉपी में प्रस्तुत किया जा सकता है?

00000000000000074081वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​नहीं, यदि विवरणी का आकार ऐसा है कि उसे एक फ्लॉपी में संग्रहित नहीं किया जा सकता है तो उसे एक सीडी में संग्रहित किया जाना चाहिए।

  
अनुमोदित

क्या एआर्इआर को संकुचित (compressed) रूप में प्रस्तुत किया जा सकता है?

00000000000000074118वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​हां, यदि विवरणी फाइल संकुचित रूप में प्रस्तुत की जाती है तो फाइल का त्वरित व आसान स्वीकरण सुनिश्चित करने के लिए, उसे केवल Winzip 8.1 या ZipItFast 3.0 या उच्च संस्करण संकुचन उपयोगिता का उपयोग कर संकुचित किया जाना चाहिए।

  
अनुमोदित

क्या मुझे एआर्इआर सीडी/फ्लॉपी पर लेबल लगाना है?

00000000000000074117वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​हाँ, आपको पहचान के लिए एआर्इआर सीडी/फ्लॉपी पर एक लेबल लगाना चाहिए। आपको एआर्इआर युक्त सीडी/ फ्लॉपी पर लेबल चिपका कर जिससे विवरणी संबंधित है, दाखिलकर्ता का नाम पैन (सरकारी दाखिलकर्ता को छोड़कर), टैन, फार्म सं (अर्थात, 61क) और अवधि (अर्थात वित्तीय वर्ष) का उल्लेख करना चाहिए।

  
अनुमोदित
अगर एक व्यक्ति 44 एडी की ओरकल्पित कराधान योजना नहीं चुनता है, और अपनी आय निचली दर पर घोषित करता है, तो ऐसे व्यक्ति पर किस प्रकार के प्रावधान लागू होंगे?

00000000000000083180कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​एक व्यक्ति अपनी आय निचली दर पर घोषित कर सकता है (8% से भी कम), फिर भी अगर वो ऐसा करता है और उसकी आय उस अधिकतम राशि को लांघ जाती है जो कर - योग्य नहीं है, तो उसे धारा  ए ए के अनुसार, लेख - जोखा की किताबें बनाये रखनी होंगी और उनका परिक्षण भी करना होगा।​

  
अनुमोदित

एआर्इआर प्रस्तुत करते समय कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए?

00000000000000074116वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

 एआर्इआर प्रस्तुत करते हुए आपको निम्नलिखित सुनिश्चित करना चाहिए:

• प्रत्येक एआर्इआर फाइल एक अलग सीडी/फ्लॉपी में सुरक्षित किया गया है।

• प्रत्येक एआर्इआर फाइल एक सीडी/लॉपी में है। यह कर्इ फ्लॉपी में नहीं होनी चाहिए।

• यदि एआर्इआर फाइल का आकार एक फ्लॉपी की क्षमता से अधिक हो जाता है, तो उसे एक सीडी में प्रस्तुत किया जाना चाहिए।

• प्रत्येक एआर्इआर फाइल के साथ एक विधिवत भरा और हस्ताक्षरित (एक अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता द्वारा) फार्म 61क (भाग क) भौतिक रूप में है।

• यदि एआर्इआर फाइल संकुचित रूप में है, तो फाइल का सुचारू स्वीकरण सुनिश्चित करने के लिए उसे केवल Winzip 8.1 या ZipItFast 3.0 या उच्चतर संस्करण संकुचन सुविधा का उपयोग कर संकुचित किया गया है।

• प्रत्येक सीडी/फ्लॉपी पर दाखिलकर्ता का नाम, उसका पैन (सरकारी दाखिलकर्ता को छोड़कर), टैन, फार्म सं और अवधि जिससे विवरणी संबंधित है, एक लेबल चिपका है।

• फार्म 61क (भाग क) पर कोर्इ ओवरराइटिंग/काटपीट नहीं होनी चाहिए। यदि कहीं भी ऐसा है, तो उसकी अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता द्वारा हस्ताक्षर के द्वारा पुष्टि की जानी चाहिए।

• सीडी/फ्लॉपी वायरस मुक्त है।

  
अनुमोदित

​धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना किसके लिए रूपांकित की गर्इ है ?

00000000000000083170कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​​ धारा 44कड़​ की योजना उन लघु करदाताओं को राहत प्रदान करने के लिए है, जो करदाता माल ढोहने और माल - वाहनों को किराए पर देने के व्यवसाय जुड़े हैं।

  
अनुमोदित

क्या टिन-एफसी एआर्इआर के लिए कोर्इ पावती/रसीद प्रदान करेगा?

00000000000000074115वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​यदि एआर्इआर फाइल सभी पहलुओं में पूर्ण है तो टिन एफसी एक अनंतिम रसीद जारी करेगा। टिन-एफसी द्वारा जारी अनंतिम रसीद प्रस्तुत एआर्इआर का सबूत माना जाएगा।

  
अनुमोदित

​धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना का लाभ उठाने के योग्य कौन है ? और 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना का लाभ कौंस व्यवसाय उठा सकता है ?

00000000000000083160कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
धारा 44कड़ के प्रावधान हर व्यक्ति पर लागू होते हैं, (यानी कि व्यक्ति, हिन्दू अविभक्त परिवार, कंपनी वगैरह।)
धारा 44कड़​ की प्रकल्पित कराधान योजना का लाभ उस व्यक्ति द्वारा उठाया जा सकता है जो माल वाहनों को किराये पर देने के व्यवसाय से जुड़ा है और जो वर्ष के किसी भी समय, घå माल वाहनों से अधिक का मालिक नहीं है।

  
अनुमोदित

क्या परिणाम होगा यदि मेरा एआर्इआर टिन-एफसी द्वारा स्वीकार नहीं किया जाता है और मैं अस्वीकृति का कारण कैसे जान सकता हूं?

00000000000000074114वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​आपके एआर्इआर-फाइल की गैर-स्वीकृति के मामले में, टिन-एफसी अस्वीकृति का कारण बताते हुए एक गैर-स्वीकृति मेमो जारी करेगा।

  
अनुमोदित

​क्या वह व्यक्ति जिसके पास 10 से अधिक माल वाहन हैं, धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार कर सकता है ?

00000000000000083150कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
धारा 44कड़​ की कराधान योजना उस व्यक्ति द्वारा अंगीकार की जा सकती है, जो माल दोहने और माल वाहनों को भाड़े पर देने के है, और जिसके पास, वर्ष के किसी भी समय 10 से अधिक माल वाहन नहीं हैं।
इस योजना की महत्व की बात है कि पास, वर्ष के किसी भी समय, 10 से अधिक माल वाहनों के मालिक होने पर प्रतिबंध। इसीलिए अगर एक व्यक्ति, वर्ष के किसी भी समय पर 10 से अधिक माल वाहनों का मालिक होता है, तो वह इस योजना का लाभ नहीं उठा सकता।
  
अनुमोदित

किन परिस्थितियों के तहत एआर्इआर स्वीकार नहीं किया जाएगा?

00000000000000074113वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

एआर्इआर निम्नलिखित मामलों में स्वीकार नहीं किया जाएगा:

• कंप्यूटर मीडिया पर असंगत लेबल चिपका होने पर। लेबल पर दाखिलकर्ता का नाम, टैन, पैन(सरकारी दाखिलकर्ता को छोड़कर), फार्म सं और वित्तीय वर्ष अवश्य होना चाहिए।

• कंप्यूटर मीडिया प्रस्तुत न किया जाना या करप्ट होना या वायरस होना या गैर पठनीय होना पाये जाने पर।

• एक एआर्इआर प्रस्तुत करने के लिए एक से अधिक कंप्यूटर मीडिया का प्रयोग किये जाने पर।

• एआर्इआर फाइल के साथ फार्म 61क (भाग क) भौतिक रूप में प्रस्तुत न किए जाने पर।

• फार्म 61क (भाग क) विधिवत रूप से भरा या हस्ताक्षरित/सत्यापित न होने पर।

• फार्म 61क (भाग क) पर हस्ताक्षर करने वाले व्यक्ति द्वारा फार्म 61क पर ओवरराइटिंग/काटपीट की पुष्टि नहीं किए जाने पर।

• एआर्इआर फाइल Winzip 8.1 या ZipItFast 3.0 या उच्चतर संस्करण के अलावा अन्य संकुचन उपयोगिताओं का उपयोग करके संकुचित किए जाने पर।

• कंप्यूटर मीडिया पर मौजूद विवरणी फाइल, एआर्इआर एफयूवी द्वारा उत्पन्न अपलोड की गर्इ फाइल न होने पर।

• फार्म 61क (भाग क) में उल्लिखित पैन या टैन का एआर्इआर फाइल के साथ बेमेल होने पर।

• फार्म 61क (भाग क) में उल्लिखित दाखिलकर्ता का नाम एआर्इआर फाइल से मेल नहीं खाता है, परंतु फार्म 61क (भाग क) में प्रदर्शित होने वाले नाम के समर्थन में कोर्इ दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किया गया है।

• टिन सुविधा केंद्र में एसएएम (विवरण स्वीकृति मॉड्यूल) द्वारा प्रदर्शित योग के साथ फार्म 61क (भाग क) में उल्लिखित नियंत्रण योग से बेमेल होने पर।

• वित्तीय वर्ष मान्य न होने पर।

  
अनुमोदित

क्या मैं अपना एआर्इआर दाखिल कर सकता हूं यदि मेरे पास लेनदेन पक्षों का पैन नहीं है और इन लेनदेन पक्षों ने फार्म सं 60/61 प्रस्तुत नहीं किया है?

00000000000000074112वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

लेन-देन पक्ष-पैन-60/61 के बीच मानचित्रण

 

क्रम सं.

लेनदेन पक्ष का प्रकार

पैन

फार्म 60/61

अभियुक्ति

1

सरकारी

वैकल्पिक

रिक्त

फाइल - स्वीकृत

2

गैर सरकारी

वैध

रिक्त

फाइल - स्वीकृत

3

गैर सरकारी

रिक्त

हां

फाइल - स्वीकृत

4

गैर सरकारी

रिक्त

नही

फाइल - स्वीकृत

उपरोक्त मैट्रिक्स के अनुसार, यदि लेनदेन पक्ष गैर सरकारी है तो आपका मामला क्रम संख्या 4 से संबंधित होगा और, तदनुसार, फाइल स्वीकार नहीं की जाएगी। हालांकि, क्रम सं. 1 के अनुसार सरकारी लेनदेन पक्षों का एआर्इआर बिना पैन उद्धृत किए हुए दायर किया जा सकता है।

  
अनुमोदित

​अगर एक व्यक्ति धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार करता है, तो उसकी कर - योग्य व्यवसायिक आय के परिकलन का क्या तरीका होगा?

00000000000000083140कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​​​अगर एक व्यक्ति धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार करना चाहता है, तो उसकी आय का परिकलन अनुमानित आधार पर होगा। आय के परिकलन की दर भारी माल वाहनों और अन्य वाहनों के लिए अलग अलग होगी। दरें इस प्रकार हैं :

• भारी माल वाहनों में, (*) आय का परिकलन 5,000 रुपये प्रति माह या उसके भाग की दर से होगा, जिस अवधि में, वर्ष के किसी भी समय माल वाहनों का मालिकाना करदाता के हाथों होगा ।

(*) भारी माल वाहन के मायने हैं बिना किसी माल के, कोर्इ भी माल वाहन, ट्रेक्टर, रोड रोलर जिसका वज़न 12,000 किलोग्राम से अधिक है।

• किसी भी अन्य माल वाहन के मामले में, (यानी कि भारी माल वाहन के अलावा) आय का परिकलन 4,5000 रुपये प्रति माह या उसके हिस्से के लिए होगा, वर्ष की किसी भी अवधि में माल वाहन का मालिकाना करदाता के हाथ में होगा।

नोट : अगर वास्तविक आय अधिक है, तो प्रकल्पित दर, यानी क़ि 5,000 रुपये/4,500 रुपये , से अधिक है तो अधिक आय घोषित करनी होगी।

नोट : एक माह का भाग पूरे माह के रूप में माना जायेगा।

बेहतर समझ के लिए स्पष्टीकरण

श्री खुश माल ढोहने और माल वाहनों को भाड़े पर देने के कारोबार से जुड़े हैं। वर्ष 2013-14 में उनके पास 9 माल वाहन थे, (5 भारी माल वाहन और 4 अन्य माल वाहन।) अगर वो धारा 44कड़ के प्रावधान अंगीकार करता है, तो माल ढोहने और माल वाहनों को भाड़े पर देने से अर्जित की हुर्इ उसकी कर योग्य आय क्या होगी ?

**

धारा 44कड़​ के अनुसार, भारी माल वाहनों के मामले में, आय का परिकलन 5,000 रुपये की दर प्रति माह या उसके भाग के लिए किया जायेगा, वर्ष की जिस अवधि में माल वाहनों का मालिकाना करदाता के हाथ में होगा । अन्य माल वाहनों के मामले में (भारी माल वाहनों अलावा) आय का परिकलन 4,500 रुपये प्रतिमाह या उसके भाग की दर से होगा, वर्ष की जिस अवधि के दौरान माल वाहनों (भारी माल वाहन छोड़कर) का मालिकाना कर दाता के हाथ में होगा ।

मौजूदा हालात में, पूरे वर्ष में श्री खुश के पास 5 भारी माल वाहन और 4 अन्य माल वाहन थे, (भारी माल वाहनों के अलावा।) इसलिए उनकी आय का परिकलन निम्नलिखित रूप से किया जायेगा :

विवरण रुपये
भारी माल वाहनों से अर्जित आय  
प्रति भारी माल वाहन से प्रति माह अर्जित की गर्इ आय 5,000
भारी माल वाहनों की संख्या (×)5
धारा 44कड़ के अनुसार 5 माल वाहनों से अर्जित आय 25,000
वर्ष में उन महीनों की संख्या जिनमे माल वाहनों पर मालिकाना अधिकार था (×) 12
धारा 44कड़ के प्रावधानों के अनुसार 5 भारी वाहनों से अर्जित कुल आय (अ) 3,00,000
अन्य माल वाहनों से अर्जित आय (भारी माल वाहनों केा छोड़कर)  
प्रति माह प्रति वाहन से अर्जित आय (भारी माल वाहनों छोड़कर) 4,500
वाहनों की संख्या (×)4
धारा 44कड़ के प्रावधानों के अनुसार 4 अन्य वाहनों (भारी माल वाहन छोड़कर) से अर्जित मासिक आय 18,000
वर्ष में उन महीनों की संख्या जिनमे माल वाहनों पर मालिकाना अधिकार था (×) 12
धारा 44कड़ के प्रावधानों के अनुसार 4 अन्य वाहनों से अर्जित कुल आय (भारी माल वाहनों को छोड़कर) (ब) 2,16,000
धारा 44कड़​ के प्रावधानों के अनुसार माल ढोहने, और माल वाहनों को  भाड़े पर देने से अर्जित आय (अ+ब) 5,16,000
  
अनुमोदित

पूरक एआर्इआर सूचना क्या है?

00000000000000074111वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​कोर्इ भी दाखिलकर्ता किसी दिए गए वित्तीय वर्ष के लिए केवल मूल एआर्इआर प्रस्तुत कर सकता है। हालांकि, उन मामलों में जिनमें दाखिलकर्ता युक्तिसंगत/सदासयी गलतियों को दूर करना चाहता है या वह एआर्इआर में शामिल किए जाने के लिए अतिरिक्त लेनदेन प्रस्तुत करना चाहता है, तो वह ऐसा 'पूरक एआर्इआर सूचना' के माध्यम कर सकता है।

  
अनुमोदित

पूरक जानकारी किस प्रकार दाखिल की जानी चाहिए?

00000000000000074110वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​पूरक जानकारी प्रस्तुत करने के लिए डेटा संरचना (फाइल प्रारूप) आयकर विभाग द्वारा निर्दिष्ट की गयी है। पूरक एआर्इआर इस डेटा संरचना के अनुसार प्रस्तुत किया जाना चाहिए है।

  
अनुमोदित

​धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना के अनुसार, एक करदाता की आय रुपये 4,500/रुपये 5,000 प्रति माह प्रति माल वाहन की दर से परिकलित की जायेगी, तो क्या ऐसे मामले में एक करदाता निर्धारित दर पर घोषित प्रकल्पित आय पर, और अधिक निगमन का दावा कर सकता है ?

00000000000000083130कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
​​आयकर कानून के सामन्य प्रावधानों के तहत, कर-योग्य व्यावसायिक आय, व्यय के रूप में निगमन के बाद परिकलित की जायेगी, जो निगमन आयकर कानून के अनुसार कटौती योग्य हैं और उन व्ययों को अस्वीकार करने के बाद जो कटौती - योग्य नहीं हैं।
अगर एक व्यक्ति धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना को चुनता है, तो आयकर कानून के अनुसार उसपर, स्वीकृति/अस्वीकृति के प्रावधान लागू नहीं होंगे, और आय का परिकलन प्रकल्पित दर के हिसाब से रुपये 4,500/रुपये 5,000 प्रति माह प्रति वाहन होगा, जो कि अंतिम (फ़ाइनल) आय मानी जायेगी। दूसरे शब्दों में, प्रति माह प्रति वाहन की आय रुपये 4,500/रुपये 5,000 की दर से, कारोबार की फ़ाइनल कर-योग्य आय मानी जायेगी और किसी भी प्रकार के अन्य व्यय अनुमत नहीं होंगे।
तो भी, अगर कर दाता साझेदार कंपनी है, और वह प्रकल्पित कराधान योजना को चुनती है, आय का परिकलन रुपये 4,500/रुपये 5,000  प्रति माह प्रति माल वाहन की दर पर परिकलित किया जायेगा और आगे के निगमन का दावा मेहनताना और साझेदारों को दिए गए ब्याज के रूप में किया जा सकता है।
धारा 44कड़ के प्रावधानों के अनुसार, आय का परिकलन करते समय, अवमूल्यन के तौर पर अलग से निगमन अनुमत नहीं है, फिर भी किसी भी संपत्ति का लिखित मूल्य धारा 32​ के तहत अवमूल्यन का दावा किया गया है और वास्तव में अनुमत भी किया गया है।
  
अनुमोदित

पूरक जानकारी कब दाखिल की जानी चाहिए?

00000000000000074109वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

दाखिलकर्ता द्वारा पूरक जानकारी दर्ज करने के लिए, तीन स्थितियाँ हो सकती हैं:

क) सीआर्इटी (सीआर्इबी) द्वारा जारी नोटिस के प्रत्युत्तर में, सीआर्इटी (सीआर्इबी) द्वारा अनुमन्य समय के भीतर

ख) अपनी ओर से-मूल एआर्इआर में प्रस्तुत न किया गया अतिरिक्त विवरण प्रस्तुत करना

ग) टिन-एफसी द्वारा अनंतिम रसीद में इंगित कमी के प्रत्युत्तर में

  
अनुमोदित

​अगर एक व्यक्ति धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना अंगीकार करता है, तो उसे धारा 44कड़ के तहत लेख - जोखा की किताबें बनाये रखना ज़रूरी हैं ?

00000000000000083120कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
​​आयकर अधिनियम 1961 की धारा 44कक में व्यवसाय/कारोबार से जुड़े व्यक्ति को लेख - जोखा की किताबें बनाये रखने के संबध में काफी प्रावधान मौजूद हैं। इसलिए व्यवसाय/कारोबार से जुड़े एक व्यक्ति को धारा 44कक के अनुसार लेख - जोखा की किताबें बनाये रखना आवश्यक है।
अगर एक व्यक्ति धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना को चुनता है, तो उसे धारा 44कक से संबधित लेख - जोखा की किताबें बनाये रखने के प्रावधान लागू नहीं होंगे। दूसरे शब्दों में, अगर एक व्यक्ति धारा 44कड़ के प्रावधान अंगीकार करता है, और अपनी आय रुपये 4,500/रुपये 5,000  प्रति वाहन प्रति माह के हिसाब से घोषित करता है, तो उसे धारा 44कड़​ की प्रकल्पित कराधान योजना के तहत आवृत व्यवसाय के संबध में, धारा 44कक के तहत लेखा-जोखा की किताबें बनाये रखने की आवश्यकता नहीं है। लेखा-जोखा की किताबें बनाये रखने की राहत पाने के अलावा, यह योजना करदाता को लेखा-जोखा की किताबों के अनिवार्य परीक्षण से भी छुटकारा दिलाएगा।

  
अनुमोदित

पूरक जानकारी प्रस्तुत करते समय कौन सी विशेष सावधानियां बरती जानी चाहिए?

00000000000000074108वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

पूरक जानकारी प्रस्तुत करने के समय, दाखिलकर्ता को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि:

क) पूरक जानकारी आयकर विभाग द्वारा निर्दिष्ट डेटा संरचना के अनुसार है।

ख) पूरक जानकारी वृद्धिशील है अर्थात, इसमें केवल पहले सूचित किए जा चुके लेनदेन की जानकारी शामिल है जिसे संशोधित किया जाना है, या वह अतिरिक्त जानकारी प्रस्तुत करना चाहता है जो पिछली विवरणी में नहीं दी गयी है।

ग) पूरक जानकारी उसी टिन-एफसी में दाखिल की जानी चाहिए जहां मूल एआर्इआर दाखिल की गयी थी। (यदि मूल एआर्इआर आनलाइन दाखिल किया गया था तो उस मामले में पूरक जानकारी भी आनलाइन दाखिल की जानी चाहिए।)

घ) पूरक जानकारी के लिए अपलोड प्रकार 'आर' के साथ पूरक जानकारी को एआर्इआर के समान प्रारूप व ढंग से दाखिल किया जाना चाहिए।

ड़) पूरक जानकारी दाखिल करने से पहले निर्देशों को ध्यान से पढ़ा जाना चाहिए। ये निर्देश एनएसडीएल-टिन की वेबसाइट https://www.tin-nsdl.com पर उपलब्ध हैं।

  
अनुमोदित

​अगर एक व्यक्ति धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार करता है, तो क्या उसे धारा 44कड़ के तहत, आवृत व्यवसाय की आय के संबध में अग्रिम कर भुगतान करने की आवश्यकता होगी?

00000000000000083110कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​​जो भी व्यक्ति धारा 44कड़ के तहत, प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार करता है, उसे अग्रिम कर के भुगतान के लिए कोर्इ राहत नहीं है। इसलिए वो अग्रिम कर भुगतान करने के लिए ज़िम्मेदार है, इसके बावजूद कि उसने धारा 44कड़​ के तहत प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार किया है।​

  
अनुमोदित

पूरक जानकारी प्रस्तुत करने के लिए दाखिलकर्ता द्वारा वहन किया जाने वाला प्रभार क्या है?

00000000000000074107वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

दाखिलकर्ता को मूल एआर्इआर के साथ-साथ पूरक जानकारी के लिए नीचे दिए गए विवरण के अनुसार अपलोड शुल्क का भुगतान करना होगा:

रिकॉर्ड की संख्या

अपलोड शुल्क (रु.)*

100 तक

31.15

101 से 1000 तक

178.00

1000 से अधिक

578.50

* जैसा लागू हो करों को छोड़कर

अद्यतन दरों के लिए कृपया https://www.tin-nsdl.com पर जाएं।

  
अनुमोदित

​अगर कोर्इ व्यक्ति धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना को अंगीकार नहीं करता, और अपनी आय निचली दर पर घोषित करता है, तो उसपर कौनसे प्रावधान लागू होंगे?

00000000000000083100कुछ योग्य व्यवसाय के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​​एक व्यक्ति अपनी आय निचली दर पर घोषित कर सकता है, (यानी कि रुपये 4,500/रुपये 5,000  प्रति वाहन, प्रति माह।). लेकिन वो अगर ऐसा करता है तो उसे धारा 44कक​ के अनुसार, लेख-जोखा की किताबें बनाये रखनी होंगी, और अपनी लेख - जोखा की किताबों का परिक्षण भी कराना होगा।​

  
अनुमोदित

​कर लेखापरीक्षा या टैक्स अॉडिट क्या है?

00000000000000084160कर अंकेक्षण पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
​​शब्दकोश में ''अॉडिट'' का अर्थ होता है जांचना, समीक्षा और निरीक्षण करना। विभिन्न कानूनों के तहत विभिन्न प्रकार के अॉडिट को वर्णित किया गया है, जैसे- कम्पनी अॉडिट को कम्पनी कानून की आवश्यकता होती है, एक लागत लेखापरीक्षा की आवश्यकता लागत लेखाजोखा कानून को होती है, आदि। आयकर कानून, आयकर कानून की –ष्टि से उसके व्यापार/धंधे के खाते के लेखापरीक्षा को करवाने के लिए करदाता को आवश्यकता होती है।
धारा 44कख, करदाताओं के स्तर से सम्बंधित प्रावधान को प्रस्तुत करती है जो एक चार्टर्ड एकाउंटेंट से उनके खाते लेखापरीक्षा को लेकर आवश्यक होते है। धारा 44कख के तहत लेखापरीक्षा, आयकर कानून के विभिन्न प्रावधानों के अनुपालन की पूर्ति के लिए होती है।
धारा 44कख​ के तहत आवश्यकता के अनुसरण में करदाता के खाते के चार्टर्ड एकाउंटेंट के द्वारा लेखापरीक्षा को आयोजित करना, कर लेखापरीक्षा कहलाती है।
चार्टर्ड एकाउंटेंट, कर लेखापरीक्षा को करता है जो कि उसके निष्कर्ष, अवलोकन आदि के लिए आवश्यक होते है जो अॉडिट रिर्पोट के रूप में है। टैक्स अॉडिट की रिपोर्ट, प्रपत्र संख्या 3सीए/3सीबी और 3सीडी में चार्टर्ड एकाउंटेंट के द्वारा दी गर्इ है।

  
अनुमोदित

पूरक जानकारी के लिए अपलोड का प्रकार क्या होना चाहिए?

00000000000000074106वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​पूरक जानकारी को इंगित करने के लिए मूल्य 'आर' होना चाहिए।

  
अनुमोदित

पूरक जानकारी के लिए अपलोड प्रकार के लिए वित्तीय वर्ष क्या होना चाहिए?

00000000000000074105वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

​पूरक जानकारी अपलोड करते समय वित्तीय वर्ष मूल विवरणी का वर्ष होगा जिसके लिए वह दाखिल की जा रही है। मूल फाइल इम्पोर्ट करने के बाद, आरपीयू स्वत: ही आवश्यक वित्तीय वर्ष विकल्प के साथ भर जाएगा। उदाहरण के लिए:- वित्तीय वर्ष 2013-14 के लिए पूरक जानकारी दाखिल किए जाने के लिए आवश्यक मूल फाइल इम्पोर्ट करने पर वित्तीय वर्ष के स्तंभ में 2013-14 स्वत: उत्पन्न हो जायेगा।

  
अनुमोदित

पिछली विवरणी दिये गये लेन-देनों में मैं किस प्रकार संशोधन कर सकता हूं या पिछली विवरणी न दिए गए अतिरिक्त लेनदेन को कैसे प्रदान कर सकता हूं?

00000000000000074104वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश

(I) पिछली विवरणी में प्रारंभ में दिये गये लेन-देनों में किसी भी प्रकार के संशोधन लिए पूरक जानकारी में दो 'लेनदेन विवरण' रिकॉर्ड प्रस्तुत किया जाना चाहिए। पहले रिकॉर्ड में 'संशोधन मोड' 'डी' होना चाहिए और 'संशोधित की जाने वाली लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या' फील्ड में उसी वित्तीय वर्ष के लिए दाखिल की गर्इ पिछली विवरणी के अनुसार संशोधित किये जाने वाले संगत लेन-देन की 'लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या' का उल्लेख किया जाना चाहिए और दूसरे रिकॉर्ड में संशोधन मोड 'ए' होना चाहिए और 'संशोधित की जाने वाली लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या' फील्ड में संगत 'डी' मोड की 'लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या' का उल्लेख करना चाहिए।

(II) यदि पिछली विवरणी में प्रारंभ में दिये गये लेन-देनों में से किसी किसी को मिटाया जाना है तो पूरक जानकारी में केवल एक 'लेनदेन विवरण' रिकॉर्ड प्रस्तुत किया जाना चाहिए जिसका 'संशोधन मोड' 'डी' होना चाहिए और 'संशोधित की जाने वाली लेन-देन क्रम संख्या' फील्ड में उसी वित्तीय वर्ष के लिए दाखिल की गर्इ पिछली विवरणी के अनुसार संशोधित किये जाने वाले संगत लेन-देन की 'लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या' का उल्लेख किया जाना चाहिए।

(III) यदि लेन-देन जोड़ा जाना है तो, पूरक जानकारी में केवल एक 'लेनदेन विवरण' रिकॉर्ड प्रस्तुत किया जाना चाहिए जिसका 'संशोधन मोड' 'ए' होना चाहिए और 'संशोधित की जाने वाली लेन-देन क्रम संख्या' के लिए कोर्इ मूल्य निर्दिष्ट नहीं किया जाना चाहिए।

उदाहरण:

लेनदेन करने वाले पक्ष का नाम

लेनदेन विवरण रिकार्ड संख्या

संयुक्त लेन-देन पक्षकार संख्या

लेनदेन की तिथि

संशोधन की विधि

संशोधित की जीने वाली लेनदेन विवरण रिकार्ड संख्या (क्रम संख्या)

यतिन नेरुरकर

11

1

02022004

डी

2

यतिन नेरुरकर

12

1

02022004

11

तनुज कोठियाल

13

1

02012004

डी

3

अमोल जाधव

14

1

02032004


  
अनुमोदित

संयुक्त लेनदेनों के लिए पिछली विवरणी दिये गये लेन-देनों में, मैं, किस प्रकार संशोधन कर सकता हूं या पिछली विवरणी न दिए गए अतिरिक्त लेनदेन को कैसे प्रदान कर सकता हूं?

00000000000000074103वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

(I) पिछली विवरणी में प्रारंभ में दिये गये लेन-देनों में किसी भी प्रकार के संशोधन लिए पूरक जानकारी में दो 'लेनदेन विवरण' रिकॉर्ड प्रस्तुत किया जाना चाहिए। पहले रिकॉर्ड में संयुक्त पक्षों के सभी लेनदेनों के लिए 'संशोधन मोड' 'डी' होना चाहिए और ''संशोधित की जाने वाली लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' फील्ड में संयुक्त पक्षों के सभी लेनदेनों के लिए उसी वित्तीय वर्ष के लिए दाखिल की गर्इ पिछली विवरणी के अनुसार संशोधित किये जाने वाले संगत लेन-देन की ''लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' का उल्लेख किया जाना चाहिए और दूसरे रिकॉर्ड में संयुक्त पक्षों में ऐसे लेन-देन जिन्हें संसोधित नहीं किया जाना है के साथ-साथ संयुक्त पक्षों के एक या अधिक लेनदेनों में संशोधन के लिए संशोधन मोड 'ए' होना चाहिए और ''संशोधित की जाने वाली लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' फील्ड में संगत 'डी' मोड की ''लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' का उल्लेख करना चाहिए।

(II) यदि पिछली विवरणी में प्रारंभ में दिये गये लेन-देनों में से किसी किसी को मिटाया जाना है तो पूरक जानकारी में दो 'लेनदेन विवरण' रिकॉर्ड प्रस्तुत किया जाना चाहिए। पहले रिकॉर्ड में पिछली विवरणी में दिए गए संयुक्त पक्षों के सभी लेनदेनों के लिए 'संशोधन मोड' 'डी' होना चाहिए और ''संशोधित की जाने वाली लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' फील्ड में संयुक्त पक्षों के सभी लेनदेनों के लिए उसी वित्तीय वर्ष के लिए दाखिल की गर्इ पिछली विवरणी के अनुसार मिटाये जाने वाले संगत लेन-देन की ''लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' का उल्लेख किया जाना चाहिए और दूसरे रिकॉर्ड में संयुक्त पक्षों में ऐसे लेन-देन जिन्हें मिटाया नहीं जाना है, के लिए संशोधन मोड 'ए' होना चाहिए और ''संशोधित की जाने वाली लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' फील्ड में संगत 'डी' मोड की ''लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' का उल्लेख करना चाहिए।

(III) यदि लेन-देन जोड़ा जाना है तो, पूरक जानकारी में दो 'लेनदेन विवरण' रिकॉर्ड प्रस्तुत किया जाना चाहिए। पहले रिकॉर्ड में पिछली विवरणी में दिए गए संयुक्त पक्षों के सभी लेनदेनों के लिए 'संशोधन मोड' 'डी' होना चाहिए और ''संशोधित की जाने वाली लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' फील्ड में संयुक्त पक्षों के सभी लेनदेनों के लिए उसी वित्तीय वर्ष के लिए दाखिल की गर्इ पिछली विवरणी के अनुसार मिटाये जाने वाले संगत लेन-देन की ''लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' का उल्लेख किया जाना चाहिए और दूसरे रिकॉर्ड में पिछली विवरणी में प्रदान किए गए संयुक्त पक्षों के लेन-देन के साथ-साथ जिन लेन-देनों को जोड़ा जाना है, के लिए संशोधन मोड 'ए' होना चाहिए और ''संशोधित की जाने वाली लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' फील्ड में संगत 'डी' मोड की ''लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' का उल्लेख करना चाहिए।

लेनदेन करने वाले पक्ष का नाम

लेनदेन विवरण रिकार्ड संख्या

संयुक्त लेनेदेन में पक्षकारों की संख्या

लेनदेन की तिथि

संशोधन की विधि

संशोधित की जाने वाली लेनदेन विवरण रिकार्ड संख्या (क्रम संख्या)

समर बनवात

11

3

01022004

डी

1

शर्मिला बनवात

11

0

 

डी

1

सरला बनवात

11

0

 

डी

1

समर बनवात

12

3

01022004

11

शर्मिला बनवात

12

0

 

11

सरला बनवात

12

0

 

11

तनुज कोठियाल

13

2

02012004

डी

2

उमेश पार्इ

13

0

 

डी

2

उमेश पार्इ

13

1

 

13

दिनेश खेडकर

14

1

02032004

डी

3

दिनेश खेडकर

15

2

02032004

14

अमोल जाधव

15

0

 

 

  
अनुमोदित

​टैक्स अॉडिट का उद्देश्य क्या है?

00000000000000084150कर अंकेक्षण पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​टैक्स अॉडिट के उद्देश्यों में से एक उद्देश्य, प्रपत्र संख्या, 3सीए/3सीबी और 3सीडी की आवश्यकताओं को जांच कर पता लगाना/प्राप्त करना/रिपोर्ट करना है। प्रपत्र संख्या, 3सीए/3सीबी और 3सीडी की रिर्पोटिंग आवश्यकताओं के अलावा, कर उद्देश्य के लिए एक उचित अॉडिट सुनिश्चित करता है कि खाते की किताबें और अन्य दस्तावेज, सही प्रकार से प्रबंधित किए गए है, कि वे, कटौती के लिए क्लेम और करदाता की आय को र्इमानदारी से प्रदर्शित करते है जो कि उनके द्वारा सही बनार्इ गर्इ है। इस प्रकार के अॉडिट, धोखाधड़ी को जांचने में भी मदद करते है। यह, कर प्राधिकरण से पहले खाते की उचित प्रस्तुति के द्वारा कर कानून के प्रशासन को भी सुविधा प्रदान करता है और नियमित सत्यापन से बाहर ले जाने में मूल्यांकन अधिकारियों के समय की बचत करता है, जैसे- योग की सत्यता की जांच करना और खरीद और ब्रिकी की पुष्टि को प्रमाणित करना कि ठीक तरह से प्रमाणित है या नहीं। मूल्यांकन अधिकारियों का बचा हुआ समय, एक मामले के अनुसंधानात्मक पहलुओं और अधिक महत्वपूर्ण को उपस्थिति करने के उपयोग में आता है।

  
अनुमोदित

पूरक जानकारी में पहले लेन-देन के लिए लेनदेन विवरण रिकार्ड संख्या (क्रम संख्या) क्या दी जानी चाहिए?

00000000000000074102वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​पूरक जानकारी में पहले लेन-देन के लिए, इस फील्ड का मूल्य पिछली विवरणी में अंतिम लेन-देन की 'लेनदेन क्रम संख्या' का मूल्य + 1 के बराबर होना चाहिए।

  
अनुमोदित

​धारा 44कख के अनुसार, जो उसके खातों के अॉडिट पाने के लिए आवश्यक है, जैसे, टैक्स अॉडिट के द्वारा कौन कवर किया जाता है?

00000000000000084140कर अंकेक्षण पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
​​•   धारा 44कख के अनुसार, निम्मलिखित व्यक्ति, उनके खातों के अॉडिट को पाने के लिए जरूर आवश्यक है:
  •  एक व्यक्ति व्यापार को चलाता है, अगर उसकी कुल ब्रिकी, टर्नओवर या सकल प्राप्तियों (जैसा भी मामला हो सकता है) में व्यापार एक साल के लिए 1 करोड़ रूपए या उससे अधिक है।
  •  एक व्यक्ति जो पेशेवर होता है, अगर उसकी सकल प्राप्तियों, व्यापार में एक वर्ष के लिए 25 लाख रूपए से ज्यादा है।
  •  एक व्यक्ति जो धारा 44कघ की प्रकल्पित कराधान योजना (*) के लिए चुनने को योग्य है लेकिन वह धारा 44कघ की प्रकल्पित कराधान योजना के लिए चुनती नहीं है और ऐसे व्यवसायों के लिए लाभ या मुनाफा का दावा, धारा 44कघ की प्रकल्पित योजना के अनुसार गणित लाभ और मुनाफा से कम होना चाहिये और उसकी आय की राशि बढ़ जाती है जोकि कर के दायरे में नहीं है।
(*) धारा 44कघ के प्रावधान के लिए, ''निश्चित योग्य व्यापार के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर'' पर टîूटोरियल को संदर्भित करना।
  •  एक व्यक्ति जो धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना (') के लिए चुनने को योग्य है लेकिन वह धारा 44कड़ की प्रकल्पित कराधान योजना के लिए चुनती नहीं है और ऐसे व्यवसायों के लिए लाभ या मुनाफा का दावा, धारा 44कड़ की प्रकल्पित योजना के अनुसार गणित लाभ और मुनाफा से कम होना चाहिये और उसकी आय की राशि बढ़ जाती है जोकि कर के दायरे में नहीं है।
(') धारा 44कड़ के प्रावधान के लिए, ''निश्चित योग्य व्यापार के मामले में प्रकल्पित आधार पर कर'' पर टîूटोरियल को संदर्भित करना।
  •  एक व्यक्ति जो धारा 44खख या 44खखख की प्रकल्पित कराधान योजना (') के लिए चुनने को योग्य है लेकिन वह धारा 44बीबी या 44खखख की प्रकल्पित कराधान योजना के लिए चुनती नहीं है और ऐसे व्यवसायों के लिए लाभ या मुनाफा का दावा, धारा 44खख की प्रकल्पित योजना के अनुसार गणित लाभ और मुनाफा से कम होना चाहिये और उसकी आय की राशि बढ़ जाती है जोकि कर के दायरे में नहीं है।
(*) धारा 44खख​, खनिज तेल की खोज में उपयोग के किराए पर लेने के आधार पर पौधों और मशीनरी आपूर्ति में लगे हुए अनिवासी करदाताओं के लिए लागू है। धारा 44खखख, टर्नकी पॉवर प्रोजेक्ट के साथ सम्बंध में, उसका कमीशनिंग या परीक्षण या मशीनरी या प्लांट का निर्माण या सिविल निर्माण के व्यापार में सलंग्न विदेशी कम्पनियों के लिए लागू है।
  
अनुमोदित

पूरक इाइल प्रारूप में 'संशोधित की जाने वाली लेनदेन विवरण रिकार्ड संख्या(क्रम संख्या)' क्या है?

00000000000000074101वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

यदि संशोधन मोड 'डी' है तो इस फील्ड का मूल्य उसी वित्तीय वर्ष के लिए दाखिल की गर्इ पिछली विवरणी के अनुसार संशोधित की जाने वाली ''लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' के बराबर होना चाहिए।

यदि संशोधन मोड 'ए' है और संशोधन मोड 'डी' के साथ संगत लेन-देन उसमें मौजूद है, तो इस फील्ड का मूल्य संगत 'डी' मोड के लेनदेन विवरण की ''लेन-देन विवरण रिकार्ड संख्या'' के बराबर होना चाहिए अन्यथा कोर्इ मूल्य निर्दिष्ट नहीं किया जाना चाहिए।

किसी भी संयुक्त लेन-देन के लिए सभी लेन-देन विवरणों में मूल्य समान होने चाहिए।

  
अनुमोदित

पूरक फाइल प्रारूप में रिस्पांस प्रकार फ्लैग, सीआर्इटी (सीआर्इबी) पत्र दिनांक और सीआर्इटी (सीआर्इबी) संदर्भ संख्या क्या है?

00000000000000074100वार्षिक सूचना विवरणी पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रशएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; व्यक्तिगत

​दाखिलकर्ता को रिस्पांस प्रकार फ्लैग, पूरक जानकारी स्व (अपनी ओर से) आधार पर दाखिल किए जाने के मामले में 'एस', 'सीआर्इटी (सीआर्इबी) पत्र' के प्रत्युत्तर में 'सी', टीएन-एफसी द्वारा अनंतिम रसीद में इंगित कमी के प्रत्युत्तर में पूरक जानकारी प्रस्तुत किए जाने के मामले 'टी' का उल्लेख करना चाहिए। इसके अतिरिक्त, यदि रिस्पांस प्रकार फ्लैग 'सी' है तो सीआर्इटी (सीआर्इबी) पत्र की तारीख व संदर्भ संख्या निर्दिष्ट की जानी चाहिए।

  
अनुमोदित

​अगर एक व्यक्ति, उसके खाते की लेखापरीक्षा होने के लिए किसी अन्य कानून के तहत या द्वारा अनिवार्य है, तो क्या उसके लिए भी यह अनिवार्य है कि वह एक बार फिर से अपने खातों का अॉडिट, धारा 44कख की आवश्यकताओं के साथ करवाएं?

00000000000000084130कर अंकेक्षण पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​​व्यक्ति जैसे- कम्पनी या कॉपरेटिव समाज, उनके विशेष कानून के तहत उनके खातों का अॉडिट करवाने के लिए आवश्यक है। धारा 44कख प्रदान करता है कि अगर एक व्यक्ति को उसके खातों को अॉडिट करवाने के लिए किसी अन्य कानून के तहत या द्वारा आवश्यकता होती है, तो उसे अपने खाते को फिर से धारा 44कख की आवश्यकताओं के साथ खाते को अॉडिट करने की जरूरत नहीं होती है। इस प्रकार के मामले में, यह पर्याप्त होता है कि अगर कुछ व्यक्ति, किसी कानून के तहत किसी व्यापार या व्यवसाय के खाते को पा लेते है और अॉडिट की रिर्पोट किसी कानून के तहत प्राप्त कर लेते है जिसकी आवश्यकता होती है या प्रपत्र संख्या 3सीए और 3सीडीय धारा 44कख​ के तहत निर्धारित रूप में चार्टर्ड एकाउंटेंट के द्वारा रिपोर्ट भी किया जाता है। (इन रूपों की प्रासंगिकता के लिए अगले पूछे जाने वाले प्रश्न)

  
अनुमोदित

​प्रपत्र संख्याएं 3सीए/ 3सीबी और 3सीडी क्या है ?

00000000000000084120कर अंकेक्षण पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​​कर अॉडिट की रिपोर्ट, चार्टर्ड एकाउंटेंट के द्वारा बनार्इ जाती है जिसे निर्धारित प्रपत्र में प्रस्तुत किया जा रहा है। धारा 44कख​ के तहत बनार्इ गर्इ अॉडिट के संदर्भ में अॉडिट रिपोर्ट के लिए निर्धारित प्रपत्र, प्रपत्र संख्या 3सीबी है और प्रपत्र संख्या 3सीडी में सूचित करने के लिए विशेष रूप से निर्धारित है। पूर्व एफएक्यू के तहत आने वाले व्यक्तियों के मामले में, जो कि किसी अन्य कानून के तहत या द्वारा उनके खातों के अॉडिट को करवाने के लिए आवश्यक है, अॉडिट रिपोर्अ के लिए निर्धारित प्रपत्र, प्रपत्र संख्या 3सीए है और विशेष निर्धारित, प्रपत्र संख्या 3सीडी में रिपोर्टेड है।​

  
अनुमोदित

​वह नियत तिथि क्या है जिसमें एक करदाता को अपने खातों का अॉडिट करवा लेना चाहिये?

00000000000000084110कर अंकेक्षण पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

धारा 44कख के तहत आने वाले व्यक्ति को अपने खातों का अॉडिट और उस अॉडिट की रिपोर्ट को आय के रिटर्न के भरने की तिथि से पहले ही भर लेना चाहिये और रिपोर्ट को प्राप्त कर लेना चाहिये, जैसे- प्रासंगिक मूल्यांकित वर्ष के 30 सितम्बर (') से पहले या तक। उदाहरण- मूल्यांकित वर्ष 2014-15 के लिए वित्तीय वर्ष 2013-14 के लिए कर अॉडिट रिपोर्ट को 30 सितम्बर 2014 से पहले ही या तक प्राप्त कर लेना चाहिये। (') करदाता के मामले में, जिसे विशिष्ट घरेलू लेन-देन या किसी अंतरराष्ट्रीय लेन-देन के संदर्भ में धारा 92​ के तहत प्रपत्र संख्या 3सीर्इबी में एक रिपोर्ट को प्रस्तुत करने की आवश्यकता होती है, आयकर के भरने की नियत तारीख, प्रासंगिक मूल्यांकित वर्ष में 30 नवम्बर है। टैक्स अॉडिट रिपोर्ट को आयकर विभाग के चार्टर्ड एकाउटेंट के द्वारा इलेक्ट्रॉनिक रूप से भरा जाना चाहिये। रिपोर्ट को भरने के बाद, चार्टर्ड एकाउंटेंट के द्वारा करदाता को आयकर विभाग के साथ उसकी र्इ-फार्इलिंग खाते से रिपोर्ट को मंजूरी दे देनी चाहिये।​

  
अनुमोदित

​खाते का अॉडिट, धारा 44कख के द्वारा आवश्यकता के रूप में न करवाने पर क्या दंड है?

00000000000000084100कर अंकेक्षण पर बहुधा पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत
​​ धारा 271ख के अनुसार, अगर कोर्इ व्यक्ति, जिसे धारा 44कख​ के तहत अपने खातों को अॉडिट करवाना था और उसने नहीं करवाया है, तो सम्बंधित अधिकारी उस व्यक्ति पर दंड लगा सकता है। लगाया गया दंड निम्मलिखित राशि में होगा:
 (ए) कुल ब्रिकी, टर्नओवर या सकल प्राप्ति का 0.5 प्रतिशत, इस वर्ष या वर्षो में, व्यवसाय में सकल प्राप्तियों के या व्यापार में, किसी मामले में यह दंड निर्धारित है।
(बी) 1,50,000 रूपए,
हालांकि, धारा 273ख के अनुसार, अगर देरी का कोर्इ कारण है और उसे व्यक्ति के द्वारा साबित कर दिया जाता है तो किसी भी प्रकार का दंड नहीं दिया जाएगा। इस प्रकार के दंड को करदाता को एक उचित अवसर प्रदान करने के लिए लगाया जाता है।
  
अनुमोदित

​पेशे का अर्थ क्या है?

00000000000000085140सामान्य पूछे जाने वाले प्रश्नएचयूएफ; गैर निवासियों; घरेलू कंपनी; छात्र; न्यास; फर्म; विदेशी फर्म; व्यक्तिगत

​​पेशे का अर्थ है किसी के कौशल व ज्ञान का स्वतंत्र रूप से दोहन। पेशे में व्यवसाय भी शामिल है। कुछ उदाहरण- विधि, चिकित्सा, इंजीनियरिंग, वास्तुशास्त्र, लेखाशास्त्र, तकनीकी परामर्श, आंतरिक सजावट, कलाकार, लेखक, आदि हैं।

1 - 100अगला