रिबन आदेश छोड़ें
मुख्य सामग्री को छोड़ें
अनुमतियाँ प्रबंधित करेंअनुमतियाँ प्रबंधित करें
|
संस्करण इतिहाससंस्करण इतिहास

Title

उत्तर

"आयकर नियम, 1962 के संशोधित नियम 1143 के अनुसार, वार्षिक सूचना रिटर्न  (एआईआर) नीचे दी गई तालिका के कॉलम (2) में उल्लिखित प्रत्येक व्यक्ति  द्वारा उक्त तालिका के कॉलम (3) में अनुरूपी प्रविष्टि में निर्दिष्ट  स्वरूप तथा मूल्य के ऐसे सभी लेन-देनों (ट्रांजेक्शन) के संबंध में  प्रस्तुत किया जाना चाहिए जो 1 अप्रैल 2004 से शुरू हो रहे वित्तीय वर्ष  के दौरान या उसके बाद उसके द्वारा रजिस्टर या दर्ज किये जाते हैं.   क्र.सं.(1)  ट्रांजेक्शन का स्वरूप एवं मूल्य व्यक्ति की श्रेणी (प्रतिवेदी व्यक्ति)  (२)
(क) एक वित्त वर्ष में दस लाख रूपए या उससे अधिक की कुल राशि के बैंक ड्राफ्ट या पे ऑर्डर या बैंकर चेक  की खरीद के लिए नगद में किया गया भुगतान
(ख) भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम, 2007 (2007 की 51) की धारा 18 के अंतर्गत भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी प्री-पेड साधनों की खरीद के लिए वित्त वर्ष के दौरान दस लाख या उससे अधिक की कुल राशि का नगद में किया गया भुगतान
(ग) एक वित्त वर्ष में कुल पचास लाख  या उससे अधिक का नगद जमा या नगद निकासी (बीयरर चेक के माध्यम सहित) एक व्यक्ति के एक या एक से अधिक चालू खाते में या उसके द्वारा। एक बैंकिंग कंपनी या एक सहकारी बैंक जिस पर बैंकिंग नियामक अधिनियम, 1949 (1949 की 10) लागू होती है (उस अधिनियम की धारा 51 में संदर्भित कोर्इ बैंक या बैंकिंग संस्थापन सहित)
2. एक व्यक्ति के एक या एक से अधिक खाते (चालू खाते और सावधि जमा को छोड़कर) में एक वित्त वर्ष में कुल दस लाख या उससे अधिक का नगद जमा या नगद निकासी  
(i) एक बैंकिंग कंपनी या एक सहकारी बैंक जिस पर बैंंिकंग नियामक अधिनियम, 1949 (1949 की 10) लागू होता है (उस अधिनियम की धारा 51 में संदर्भित कोर्इ बैंक या बैंकिंग संस्थान सहित)
(ii) भारतीय डाक कार्यालय अधिनियम, 1898 (1898 की 6) की धारा 2 के वाक्यांश (´) में संदर्भित महाडाकपाल 10। 3. एक व्यक्ति के एक वित्त वर्ष में दस लाख रूपए या उससे अधिक की कुल राशि के एक व्यक्ति के एक या एक से अधिक बार जमा (अन्य सावधि जमा के नवीकरण के माध्यम से किए गए सावधि जमा को छोड़कर)
(iii) कंपनी अधिनियम, 2013 (2013 की 18) की धारा 406 में संदर्भित निधि 10
(iv) गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी जिसने भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम, 1934 (1934 की 6) की धारा 45-झक के अंतर्गत, जनता से जमा रखने या स्वीकृत करने के लिए पंजीकरण का प्रमाणपत्र रखा है
4. निम्न तक एक राशिके किसी व्यक्ति द्वारा भुगतान
(i) नगद में एक लाख रूपए या उससे अधिक या
(ii) एक वित्त वर्ष में उस व्यक्ति को जारी किए गए एक या एक से अधिक क्रेडिट कार्ड के संबंध में आए बिल के समक्ष किसी अन्य विधि द्वारा दस लाख या उससे अधिक । एक बैंकिंग कंपनी या एक सहकारी बैंक जिस पर बैंंिकंग नियामक अधिनियम, 1949 (1949 की 10) लागू होता है (उस अधिनियम की धारा 51 में संदर्भित कोर्इ बैंक या बैंकिंग संस्थान सहित) या क्रेडिट कार्ड जारी करने वाल कोर्इ अन्य कंपनी या संस्थान  
5. कंपनी या संस्थान द्वारा जारी बांड या डिबेंचर प्राप्त करने के लिए एक वित्त वर्ष में दस लाख रूपए या उससे अधिक की कुल राशि का किसी व्यक्ति द्वारा प्राप्ति (उस कंपनी द्वारा जारी बांड या डिबेचर के नवीकरण के कारण प्राप्त राशि को छोड़कर)। एक कंपनी या संस्थान जो बांड या डिबेंचर जारी करती हो
6. कंपनी द्वारा जारी शेयर (आवेदन राशि को साझा करने सहित) को प्राप्त करने के लिए एक वित्त वर्ष में दस लाख या उससे अधिक की कुल राशि के किसी व्यक्ति द्वारा प्राप्ति। शेयर जारी करने वाली एक कंपनी  
7. एक वित्त वर्ष में दस लाख या उससे अधिक की कुल राशि या निधि के लिए किसी व्यक्ति (खुले बाजार में लाए गए शेयर को छोड़कर) से शेयर की पुर्नखरीद। कंपनी अधिनियम, 2013 (2013 की 18) की धारा 68 के अंतर्गत अपनी खुद की प्रतिभूतियों की खरीद के लिए मान्यताप्राप्त शेयर बाजार पर सूचित कंपनी।
8. एक म्युचुयल फंड की एक या एक से अधिक र्इकार्इयों को प्राप्त करने के लिए एक वित्त वर्ष में दस लाख या उससे अधिक की कुल राशि के किसी व्यक्ति द्वारा प्राप्ति। एक म्युचुयल फंड के एक न्यासी या म्युचुयल फंड के मामलों को प्रबंधित करने वाल ऐसे अन्य व्यक्ति जिसे इस संबंध में न्यासी द्वारा विधिवत रूप से प्राधिकृत किया जा सकता है  
9. एक वित्त वर्ष के दौरान दस लाख या उससे अधिक की कुल राशि के नकद में या डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड या ट्रेवलर चेक या ड्राफ्ट या किसी अन्य साधन के माध्यम से ऐसी मुद्रा में व्यय या विदेशी विनिमय कार्ड हेतु ऐसी मुद्रा के किसी क्रेडिट सहित विदेशी मुद्रा की बिक्री के लिए किसी व्यक्ति से प्राप्ति। प्राधिकृत व्यक्ति जैसा विदेशी विनिमय प्रबंधन अधिनियम, 1999 (1999 की 42) की धारा 2 के वाक्यांश (2) में संदर्भित है।
10. तीस लाख या उससे अधिक पर अधिनियम की धारा 50ग में संदर्भित स्टांप मूल्यांकन प्राधिकारी द्वारा तीस लाख रूपए या उससे अधिक की राशि के लिए अचल संपत्ति के किसी व्यक्ति द्वारा खरीद या बिक्री। उस अधिनियम की धारा 6 के अंतर्गत नियुक्त पंजीकरण अधिनियम 1908 या पंजीयक या उप-पंजीयक की धारा 3 के अंतर्गत नियुक्त महाअधीक्षक  
11. किसी प्रकार (इस नियम, यदि हो, की क्र.सं. 1 से 10 में निर्दिष्ट को छोड़कर) के उत्पाद या सेवा की बिक्री, किसी व्यक्ति द्वारा, के लिए दो लाख रूपए से अधिक के नगद में भुगतान की प्राप्ति। यदि कोर्इ व्यक्ति जो अधिनियम की धारा 44कख के अंतर्गत अंकेक्षण के लिए उत्तरदायी है  
12. 9 नवंबर 2016 से 30 दिसंबर 2016 की अवधि के दौरान नगद जमा जो   
(i) एक व्यक्ति के एक या एक से अधिक चालू खाते में पच्चीस लाख पचास हजार या उससे अधिक या (ii) एक व्यक्ति के एक या एक से अधिक खातों में (चालू खाते को छोड़कर) में पच्चीस लाख पचास हजार या उससे अधिक  
(i) एक बैंकिंग कंपनी या एक सहकारी बैंक जिस पर बैंंिकंग नियामक अधिनियम, 1949 (1949 की 10) लागू होता है (उस अधिनियम की धारा 51 में संदर्भित कोर्इ बैंक या बैंकिंग संस्थान सहित)
(ii) भारतीय डाक कार्यालय अधिनियम, 1898 (1898 की 6) की धारा 2 के वाक्यांश (´) में संदर्भित महाडाकपाल 10। 9कख [13. खाते जो क्र.सं. 12 के अंतर्गत प्रतिवदेी है के संबंध में 1 अप्रैल 2016 से 9 नवंबर 2016 की अवधि के दौरान नकद में जमा)
(i) एक बैंकिंग कंपनी या एक सहकारी बैंक जिस पर बैंंिकंग नियामक अधिनियम, 1949 (1949 की 10) लागू होता है (उस अधिनियम की धारा 51 में संदर्भित कोर्इ बैंक या बैंकिंग संस्थान सहित) (ii) भारतीय डाक कार्यालय अधिनियम, 1898 (1898 की 6) की धारा 2 के वाक्यांश (´) में संदर्भित महाडाकपाल 10। 9कख  
(३)  १   बैंकिंग कंपनी जिस पर बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 (1949 का 10) लागू  होता है (उस अधिनियम की धारा 51 में उल्लिखित किसी बैंक या बैंकिंग संस्था  सहित).  उस बैंक में अनुरक्षित व्यक्ति के किसी बचत बैंक खाते में वर्ष  में कुल 10 लाख रुपये या इससे अधिक की नकदी जमाराशियां.  2   बैंकिंग कंपनी जिस पर बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 (1949 का 10) लागू  होता है (उस अधिनियम की धारा 51 में उल्लिखित किसी बैंक या बैंकिंग संस्था  सहित) अथवा क्रेडिट कार्ड जारी करने वाली कोई अन्य कंपनी या संस्था.   किसी व्यक्ति को जारी किये गये क्रेडिट कार्ड के संबंध में उत्पन्न  बिलों के प्रति उस व्यक्ति द्वारा वर्ष में किये गये कुल 2 लाख रुपये या  इससे अधिक के भुगतान.  3  म्यूच्युअल फंड का ट्रस्टी या म्यूच्युअल  फंड के कार्यों का प्रबंध  उस फंड के यूनिट्स खरीदने के लिए किसी व्यक्ति  से दो लाख रुपये या इससे अधिक राशि की प्राप्ति.  4  बांड या डिबेंचर जारी  करने वाली कंपनी या संस्था   कंपनी या संस्था द्वारा जारी बांडों या डिबेंचरों को खरीदने के लिए किसी  व्यक्ति से पांच लाख रुपये या इससे अधिक राशि की प्राप्ति.  5  सार्वजनिक  या राइट्स निर्गम के जरिए शेयर जारी करने वाली कंपनी  कंपनी द्वारा जारी  शेयरों को खरीदने के लिए किसी व्यक्ति से एक लाख रुपये या इससे अधिक राशि  की प्राप्ति.  6  रजिस्ट्रीकरण अधिनियम, १९०८ की धारा 6 के अंतर्गत  नियुक्त रजिस्ट्रार या उप – रजिस्ट्रार  किसी व्यक्ति द्वारा तीस लाख  रुपये या इससे अधिक मूल्य की अचल संपत्ति की खरीद या बिक्री.  7   भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम, 1934 की धारा 3 के अंतर्गत गठित भारतीय  रिजर्व बैंक का अधिकारी व्यक्ति जो इस संबंध में भारतीय रिजर्व बैंक  द्वारा विधिवत् प्राधिकृत है.  भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी बांडों के  लिए किसी व्यक्ति से वर्ष में कुल पांच लाख रुपये या इससे अधिक राशि की  प्राप्ति."

Group

प्रश्न

टैगिंग

सक्रिय

समानार्थक शब्द

AskIt में दिखाएँ

टिप्पणी

पूछे जाने वाले प्रश्न में दिखाएँ

विषय

वर्ग

सॉर्ट क्रम

अनुमोदन स्थिति अनुमोदित

अनुलग्नक

संस्करण:
द्वारा पर बनाया गया
द्वारा पर अंतिम बार संशोधित किया गया